नयन मोंगिया © Getty Images
नयन मोंगिया © Getty Images

नयन मोंगिया को तो आप जानते ही होंगे। उन्होंने विकेटकीपर के तौर पर टीम इंडिया को अपनी सेवाएं दीं और लंबे समय तक फैंस के दिलों में बरकरार रहे। नयन मोंगिया ने भारत की ओर से 44 टेस्ट और 140 वनडे खेले। अब उनका बेटा क्रिकेट के मैदान पर धमाल मचाने के लिए तैयार है। नयन के बेटे का नाम मोहित है। लेकिन वह नयन से उलट लेफ्ट आर्म स्पिनर है।

मोहित ने अपने पिता के कदमों पर चलते हुए कोच विनीत वाडेकर से स्लो-लेफ्ट-आर्म बॉलिंग सीखी। मोहित का कहना है कि उसके पिता ने बताया था कि विकेटकीपिंग की ज्यादा कद्र नहीं होती साथ ही मोहित को शुरू से ही लगता था कि वह विकेटों के पीछे खड़े होने के लिए क्रिकेटर नहीं बना है इसलिए उसने अपने पिता से उलट रास्ता चुना।

टाइम्स ऑफ इंडिया वेबसाइट में छपी खबर के मुताबिक मोहित ने कहा, “मेरे पिता ने हमेशा मुझसे कहा था कि विकेटकीपिंग एक ऐसी कला है जिसकी तारीफ नहीं होती। मैंने भी इस बात को समझा है कि मैं विकेटकीपर बनने के लिए नहीं बना हूं। इसलिए जब मेरे कोच ने मुझे सलाह दी कि मैं लेफ्ट-आर्म स्पिन फेंकूं, तो मैं फौरन तैयार हो गया।”

अपने बेटे के बारे में नयन मोंगिया ने कहा, “मॉर्डन क्रिकेटर्स को कई चीजें करनी आनी चाहिए। वह अच्छी गेंदबाजी कर रहा था और बैट से उपयोगी योगदान दे रहा था। मुझे और वाडेकर को इस बात का यकीन हो गया कि अब मोहित अपनी बैटिंग को गंभीरता से लेना लगा है।”  [ये भी पढ़ें: एडम जंपा को लगा ‘झटका’, 5 सेकेंड के लिए हो गए सन्न]

नयन ने वीनू मांकड़ अंडर-19 वनडे मैच में उनकी टीम बड़ौदा के द्वारा मुंबई को हराने को लेकर कहा, “हमने इतनी आसान जीत के बारे में नहीं सोचा था। लेकिन हमारे गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी की। हम मुंबई को 175-200 के बीच रोकना चाहते थे, लेकिन हमने उन्हें 143 पर ही ढेर कर दिया, जो ईमानदारी से बहुत अलग था। बैटिंग करने के लिए यह अच्छा विकेट था और हमें यहां खेलकर मजा आया। हमने सोचा कि हम लक्ष्य का पीछा करते हुए बहुत आसान महसूस कर रहे थे, इसीलिए हमने गेंदबाजी चुनी।”