इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के 13वें एडिशन के आयोजन की तैयारियां जोरों पर है. इस लीग का आयोजन 19 सितंबर से 10 नवंबर तक संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में होगा. शुरुआती कुछ मुकाबलों में कई टीमों को इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की सेवाएं नहीं मिल पाएंगी क्योंकि उस दौरान दोनों टीमों के बीच लिमिटेड ओवर की सीरीज खेली जाएगी.

इन खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी के बावजूद जस्थान रॉयल्स का कहना है कि इससे टीम को नुकसान की जगह फायदा होगा क्योंकि स्टीव स्मिथ, बेन स्टोक्स और जोफ्रा आर्चर जैसे खिलाड़ी ‘पूरी तैयारी’के साथ यूएई पहुंचेंगे.

ऑस्ट्रेलियाई टीम करेगी इंग्लैंड का दौरा 

कोविड-19 महामारी के बीच इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया है जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम इंग्लैंड दौरे पर तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय और इतने ही एक दिवसीय मैचों की श्रृंखला खेलेगी.

इस श्रृंखला से स्मिथ को फायदा होगा, जो आईपीएल में रॉयल्स का नेतृत्व करेंगे. रॉयल्स टीम के इंग्लैंड के खिलाड़ी जोफ्रा आर्चर (Jofra Archer) , जोस बटलर (Jos Buttler) और स्टोक्स (Ben Stokes) पहले से ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे है . वह हालांकि पांच दिवसीय प्रारूप का मैच खेल रहे है.

इंग्लैंड में दोनों देशों की श्रृंखला का आखिरी मैच 16 सितंबर को खेला जाएगा और 19 सितंबर से शुरू होने वाले आईपीएल के लिए यूएई में खिलाड़ियों को छह दिनों के लिए पृथकवास पर रहना होगा. इसका मतलब यह हुआ कि इस श्रृंखला में खेलने वाले आईपीएल खिलाड़ी शुरूआती कुछ मैचों में अपनी फ्रेंचाइची टीम का प्रतिनिधित्व नहीं कर पाएंगे.

बीसीसीआई के एसओपी को मानना जरूरी

राजस्थान रॉयल्स ने कहा कि बीसीसीआई की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) को मानना जरूरी होगा.

राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) के सीओओ (मुख्य संचालन अधिकारी) जेक लश मैक्रोम ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी आईपीएल से ठीक पहले एक बड़ी श्रृंखला में एक-दूसरे के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करेंगे, जिसमें कई सकारात्मक चीजे हैं . यह उन्हें पूर्ण मैच फिटनेस हासिल करने में मदद करेगा.’

उन्होंने कहा, ‘वे आईपीएल से पहले उच्चतम स्तर पर प्रतिस्पर्धा करेंगे जहां वे सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के खिलाफ खेलेंगे. बीसीसीआई द्वारा लगाए गए प्रोटोकॉल के कारण वे पहला मैच नहीं खेलेंगे लेकिन हमारा मानना ​​है कि हर किसी को सुरक्षित रखने के लिए प्रोटोकॉल आवश्यक हैं.’