इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) ने कहा कि इस साल के आखिर में एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया दौरे पर तेज गति से गेंदबाजी नहीं बल्कि लगातार दबाव बनाए रखना उनकी टीम के लिए महत्वपूर्ण होगा।

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर कोहनी की चोट के कारण दौरे से बाहर हो गए हैं तो वही ओली स्टोन पीठ दर्द की समस्या से परेशान हैं।

ऐसे में अनुभवी जेम्स एंडरसन गेंदबाजी अटैक का नेतृत्व करेंगे जिसमें मार्क वुड के रूप में सिर्फ एकमात्र गेंदबाज होगा जो लगातार 90 मील प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी कर सकता है।

ब्रॉड को चोट से उबरने के बाद कोच क्रिस सिल्वरवुड की 17 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि आठ दिसंबर से ब्रिस्बेन में शुरू होने वाली श्रृंखला में ऑस्ट्रेलिया के लिए इंग्लैंड के पास मुख्य योजना के अलावा दूसरी योजना भी है।

‘द टेलीग्राफ’ के मुताबिक ब्रॉड ने कहा, ‘‘ मैं काफी अध्ययन कर रहा हूं और ये परखने की कोशिश कर रहा हूं कि पिछले छह सालों में ऑस्ट्रेलिया में दाएं हाथ के गेंदबाजों के खिलाफ विकेट की दोनों ओर से गेंदबाजी पर बल्लेबाज कैसे आउट हुए हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हम अक्सर इंग्लैंड में बहुत तेज गति के बारे में बात करते हैं, लेकिन मैं जो महसूस कर रहा हूं वो उसके बारे में नहीं है। ये सही लाइन-लेंथ से गेंदबाजी के बारे में है। ये (ग्लेन) मैकग्रा जैसा है जो लंबे समय तक गेंदबाजी करते रहे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया में काइल एबॉट और (वर्नोन) फिलेंडर (दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज) का शानदार रिकॉर्ड हैं। वे स्टंप पर गेंदबाजी करते थे। इसी तरह आपको ऑस्ट्रेलिया में सफलता मिलती है। इसलिए मैं ज्यादा चिंतित नहीं हूं।’’