रिद्धिमान साहा  © AFP
रिद्धिमान साहा © AFP

भारतीय टेस्ट टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा ने बयान दिया है कि उन्हें अनिल कुंबले कभी भी सख्त मिजाज़ नहीं लगे। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि रवि शास्त्री ने हमेशा ही उन्हें विपक्षी टीम को हराने के लिए प्रेरित किया है। कुंबले ने पिछले दिनों कप्तान विराट कोहली के साथ मतभेद के बाद टीम इंडिया के कोच पद से इस्तीफा दे दिया था। कुंबले के पद छोड़ने के बाद कोहली के साथ उनके विवाद की खबरें और ज्यादा बढ़ने लगीं थी। इस बारे में बात करते हुए साहा ने कहा, “मुझे कभी ऐसा नहीं लगा, बतौर कोच आपको थोड़ा अनुशासित तो होना ही पड़ता है। कुछ लोगों को लगा कि वह सख्त हैं, कुछ लोगों को ऐसा नहीं लगा। अनिल भाई के बारे में मुझे कभी ऐसा नहीं लगा।”

टीम इंडिया ने हाल ही में रवि शास्त्री के कार्यकाल में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज 3-0 से जीती है। दोनों कोचों के काम करने के तरीके में अंतर पूछने पर साहा ने कहा, “अनिल भाई हमेशा हमें 400,500, 600 रन बनाने और विपक्षी टीम को 150-200 के स्कोर पर आउट करने के लिए कहते थे। ऐसा हमेशा मुमकिन नहीं हो पाता है। रवि भाई हमसे कहते हैं कि मैदान में जाओ और विपक्षी पर वार करो। दोनों में बस इतना ही अंतर है। बाकी दोनों ही हर समय सकारात्मक रहते हैं।” [ये भी पढ़ें: भारत दौरे के लिए ऑस्ट्रेलिया टीम का ऐलान]

श्रीलंका के खिलाफ ऐतिहासिक जीत के बारे में बात करते हुए साहा ने कहा, “जब दो साल पहले हम गॉल टेस्ट हारे थे तो सभी खिलाड़ियों ने एक बैठक की थी। हम तभी से इसे जारी रख रहे हैं। इससे हमें अपने आप को प्रोत्साहित करने में मदद मिलती है। हम योजना बनाते हैं और उसी के मुताबिक खेलते हैं।” श्रीलंका के खिलाफ सीरीज में साहा ने शानदार प्रदर्शन किया था जिसके बाद हर जगह उनकी तारीफ हो रही है। हाल ही में शास्त्री ने उनकी तुलना महेंद्र सिंह धोनी से की थी।