भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) ने खुलासा किया है टीवी शो कॉफी विद करन में आपत्तिजनक कमेंट करने की वजह से उन पर बैन लगने के बाद पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने उनकी मदद की थी। पांड्या ने माना कि धोनी उनके लिए केवल महान कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज नहीं हैं, उनके लिए धोनी उनके भाई हैं।

ईएसपीएनक्रिकइंफो से बातचीत में पांड्या ने कहा, “एमएस उन लोगों में से हैं जिन्होंने मुझे शुरू से ही समझा: मैं कैसे काम करता हूं, मैं किस तरह का व्यक्ति हूं, ऐसी कौन सी चीजें हैं जो मुझे पसंद नहीं हैं, सब कुछ।”

पांड्या ने बताया जनवरी 2019 में उन पर लगा बैन हटने के बाद जब उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के लिए चुन गया था, तो टीम होटल में उनके रुकने के लिए कमरा भी नहीं था लेकिन धोनी ने उन्हें अपने कमरे में रहने की इजाजत दी।

उन्होंने कहा, “जब मुझे न्यूजीलैंड सीरीज के लिए चुना गया तो शुरू में होटल में कोई (खाली) कमरे नहीं थे। लेकिन फिर मुझे एक फोन आता है, “तुम अभी आओ। एमएस ने हमें बताया, ‘मैं बेड पर नहीं सोता। वो मेरे बेड पर सो जाएगा और मैं फर्श पर सोऊंगा” वो [धोनी] पहले व्यक्ति थे जो हमेशा से मेरे साथ रहे हैं। उन्होंने मुझे लगभग उसी समय फोन किया, जब मेरी आकाश से बातचीत हुई थी।”

अपने करियर के उस मुश्किल समय को याद करते हुए पांड्या ने कहा, “उन्हें पता है कि मैं किस तरह का इंसान हूं। वो मुझे गहराई से जानते हैं। मैं उनके बेहद करीब हूं। वो अकेले ऐसे शख्स हैं जो मुझे शांत कर सकते हैं। जब ये (टीवी शो विवाद) सब हुआ, मुझे पता था कि मुझे समर्थन की जरूरत है, मुझे एक कंधे की जरूरत थी, जो उन्होंने मेरे क्रिकेट करियर में कई बार दिया।”

पांड्या ने कहा, “मैंने उन्हें कभी भी ‘महान एमएस धोनी’ की तरह नहीं देखा। मेरे लिए, माही मेरा भाई है। मैं इस बात का सम्मान और प्रशंसा करता हूं कि वो तब वहां थे जब मुझे उनकी सबसे ज्यादा जरूरत थी।”

पांड्या ने अपना अंतरराष्ट्रीय डेब्यू धोनी की कप्तानी में किया था। धोनी ने ही पांड्या को अपना पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट लेने के बाद जश्न मनाने के लिए जुर्माना लगाने से बचाया था। जिस पर पांड्या ने मजाकिया अंदाज में कहा, “हां, वो शुरू से ही मेरा पैसा बचाते रहे हैं।”