भारत के खिलाफ सीमित ओवर फॉर्मेट सीरीज में न्यूजीलैंड टीम अपने प्रमुख तेज गेंदबाजों ट्रेंट बोल्ट, मैट हैनरी और लोकी फर्ग्यूसन के बिना खेल रही थी। जिसका नतीजा 50-50 रहा। कीवी टीम टी20 सीरीज में 0-5 से हारी और फिर भारत को वनडे सीरीज में 3-0 से हराया। लेकिन बोल्ट-हैनरी की गैर मौजूदगी में कीवी टीम को काइल जेमीसन के रूप में एक शानदार गेंदबाज मिला, जिसने भारतीय बल्लेबाजों को खूब परेशान किया।

वनडे और टी20 के बाद जेमीसन ने भारत के खिलाफ सीरीज में ही अपना टेस्ट डेब्यू किया और वेलिंगटन टेस्ट की पहली पारी में चार विकेट लेकर खुद को तीनों फॉर्मेट खेलने वाला गेंदबाज साबित किया। कप्तान केन विलियमसन भी जेमीसन के प्रदर्शन से बेहद प्रभावित हैं लेकिन अब जबकि नील वेगनर वापस आ चुके हैं कीवी टीम मैनेजमेंट की मुश्किलें बढ़ गईं हैं।

खराब प्रदर्शन के बाद कोहली ने बल्लेबाजों को दी सलाह- घबराने से नहीं हल होगी परेशानी

दरअसल वेगनर ने अपने बच्चे के जन्म के लिए पहले टेस्ट से बाहर रहने का फैसला किया था और उनकी जगह जेमीसन को दी गई थी। लेकिन वेगनर अब टेस्ट स्क्वाड से जुड़ गए हैं और चयन के लिए उपलब्ध हैं। इतना ही नहीं चोट से जूझ रहे हैनरी भी अब प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बनने के लिए फिट हैं। ऐसे में 29 फरवरी से शुरू होने वाले दूसरे मैच में इन तीन गेंदबाजों में से किसे मौका मिलेगा ये कहना मुश्किल है।

इस बारे में कप्तान विलियमसन ने कहा, “नील टीम के साथ जुड़ने को लेकर काफी उत्साहित होंगे, तो उनका आना टीम के लिए बहुत अच्छा होगा। बेशक, हमारे पास मैट हेनरी भी हैं और उन्होंने टीम के लिए बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है।”

Ranji Trophy Semi Final: बंगाल के खिलाफ मुकाबले से पहले कर्नाटक की टीम से जुड़े केएल राहुल

जेमीसन, जिन्होंने वेलिंगटन टेस्ट में 45 गेंदो पर 44 रन की पारी भी खेली थी, वो बल्ले और गेंद दोनों के साथ योगदान दे सकते हैं। ऐसे में विलियमसन और टीम मैनेजमेंट विनिंग कॉम्बिनेशन में बदलाव ना करने के विचार के साथ जा सकते हैं। लेकिन वेगनर और हैनरी जैसे सीनियर खिलाड़ियों को भी अनदेखा नहीं किया जा सकता है।