टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) का कहना है कि इंग्लैंड (England) के खिलाफ उसकी सरजमीं पर टेस्ट श्रृंखला खेलने के बाद न्यूजीलैंड (New Zealand) विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) के फाइनल में फायदे की स्थिति में रहेगा लेकिन भारत उपलब्ध समय का इस्तेमाल 18 जून से यहां खेले जाने वाले खिताबी मुकाबले की अच्छी तैयारी के लिए करेगा. पृथकवास पूरा करने के बाद भारतीय टीम अपनी ही दो टीमें बनाकर मुकाबले खेलकर तैयारी कर रही है जबकि न्यूजीलैंड ने डब्ल्यूटीसी फाइनल से पहले इंग्लैंड को उसकी सरजमीं पर दो टेस्ट की श्रृंखला में 1-0 से हराकर अच्छी तैयारी की है.

भारतीय खिलाड़ियों ने इससे पहले आईपीएल में हिस्सा लिया जिसे कोरोना वायरस मामलों के कारण बीच में ही निलंबित करना पड़ा. पुजारा ने बीसीसीआई.टीवी से कहा, ‘‘फाइनल से पहले दो टेस्ट मैच खेलकर बेशक वे फायदे की स्थिति में होंगे लेकिन जब बात फाइनल की आती है तो हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करेंगे और हमें पता है कि हमारी टीम में अच्छा प्रदर्शन करने और चैंपियनशिप जीतने की क्षमता है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए हम इसे लेकर चिंतित नहीं हैं, हमें तैयारी के लिए जो 10 से 12 दिन का समय मिला है उसमें हम एकाग्र रहने का प्रयास करेंगे. हम एक अभ्यास मैच भी खेलेंगे और हम उपलब्ध संसाधनों का सर्वश्रेष्ठ इस्तेमाल का प्रयास करेंगे. अगर हम इन दिनों का सही इस्तेमाल कर पाए तो मुझे लगता है कि हमारी टीम फाइनल में चुनौती के लिए तैयार रहेगी’

सौराष्ट्र के मध्यक्रम के इस बल्लेबाज ने कहा कि खिलाड़ियों के लिए सबसे बड़ी चुनौती इंग्लैंड के मौसम से सामंजस्य बैठाने की होगी. उन्होंने कहा, ‘‘यहां एक ही दिन में अलग अलग हालात में खेलना बल्लेबाज के लिए सबसे अधिक चुनौतीपूर्ण होता है क्योंकि अगर बारिश होती है तो आपको मैदान से बाहर जाना होता है और इसके बाद अचानक बारिश रुक जाती है और आपको दोबारा शुरुआत करनी होती है.’’

अब तक 85 टेस्ट में 6244 रन बनाने वाले पुजारा ने कहा कि डब्ल्यूटीसी फाइनल के लिए क्वालीफाई करना भारतीय टीम की विशेष उपलब्धि है. उन्होंने कहा, ‘‘निजी तौर पर यह मेरे लिए काफी मायने रखता है क्योंकि मैं सिर्फ इसी एक प्रारूप में खेल रहा हूं और यह क्रिकेट में सबसे चुनौतीपूर्ण प्रारूप है. यहां पहुंचने के लिए हमने एक टीम के रूप में काफी कड़ी मेहनत की है. ’’

पुजारा ने कहा, ‘‘इसलिए मुझे यकीन है कि सभी खिलाड़ी फाइनल को लेकर उत्सुक हैं और हमारे लिए फाइनल जीतना काफी मायने रखता है. लेकिन फाइनल में पहुंचने के लिए भी टीम ने पिछले दो साल में कड़ी मेहनत की है.’’ 33 साल के इस बल्लेबाज ने कहा कि भारतीय टीम एकजुट है क्योंकि खिलाड़ियों ने जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में काफी समय साथ बिताया है.