विराट कोहली और एमएस धोनी  © AFP
विराट कोहली और एमएस धोनी © AFP

पल्लेकेले। महेंद्र सिंह धोनी के टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद उनकी फॉर्म और भविष्य को लेकर लगातार चर्चा होती रही है लेकिन कप्तान विराट कोहली का मानना है कि अगले तीन महीनों में सीमित ओवरों के कई मैच होंगे जिससे इस पूर्व कप्तान को अपनी लय हासिल करने में मदद मिलेगी। धोनी अभी अच्छी फॉर्म में नहीं हैं लेकिन कोहली को उम्मीद है कि इस सत्र में सीमित ओवरों के 24 मैचों से धोनी फिर से अपनी असली फॉर्म में लौटने में सफल रहेंगे।

कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ दूसरे वनडे की पूर्व संध्या पर पत्रकारों से कहा, ‘‘इस सत्र में हमें खिलाड़ियों की भूमिका परिभाषित करने में मदद मिलेगी। इससे हम विश्व कप से पहले उन्हें अपनी भूमिका में खरा उतरने के लिये समय दे पाएंगे। इससे हमें पता चलेगा कि कुछ खास परिस्थितियों में एक खिलाड़ी को क्या करने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘और इससे पहले धोनी जैसे खिलाड़ियों को भी मदद मिलेगी क्योंकि अब वह टेस्ट क्रिकेट नहीं खेलते हैं। लगातार मैचों से उन्हें अंतरराष्ट्रीय मैचों में लय हासिल करने और उसे बरकरार रखने में मदद मिलेगी। ’’ कोहली का मानना है कि यह अपने अंदर अच्छी आदतों को विकसित करना और उन्हें विश्व कप तक बनाये रखने से जुड़ा है। उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए यह धोनी सहित टीम में मौजूद सभी खिलाड़ियों के लिये अच्छी आदतें विकसित करने और उन्हें एक निश्चित समय तक बरकरार रखने का मौका है।’’

कुलदीप यादव से ज्यादा उपयोगी अक्षर पटेल: कोहली का इसके साथ ही मानना है कि चाइनामैन कुलदीप यादव की तुलना में अक्षर पटेल अधिक उपयोगी क्रिकेटर है और यही वजह है कि उन्हें पहले वनडे में अंतिम एकादश में रखा गया। उन्होंने कहा, ‘‘यह टीम में बायें हाथ के दो स्पिनरों की मौजूदगी से जुड़ा है जिसके कारण पहले मैच में कुलदीप नहीं खेल पाया। कुलदीप पर अक्षर को तरजीह इसलिए दी गयी क्योंकि वह काफी अच्छी बल्लेबाजी करता है और उसका क्षेत्ररक्षण भी अच्छा है। कुलदीप को पूर्व में भी मौके मिले हैं। ’’

कोहली ने कहा, ‘‘युजवेंद्र चहल और अक्षर ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें ज्यादा मौके नहीं मिले और इसलिए हम उन्हें आजमाना चाहते हैं। यह पूरा मामला खिलाड़ियों को मौका देने से जुड़ा है, लेकिन कुलदीप हमारी योजना का हिस्सा हैं। उस जैसे खिलाड़ी की मौजूदगी टीम के लिए हमेशा के लिए फायदे वाली बात है। अगर आगामी मैचों में हमें लगता है कि हमें निचले क्रम में भी मजबूत बल्लेबाजी की जरूरत नहीं है तो आप लेग स्पिनरों को भी खेलते हुए देख सकते हो।’’

कोहली ने की हार्दिक पांड्या की गेंदबाजी की तारीफ: हार्दिक पांड्या को नई गेंद सौंपने के बारे में कोहली ने कहा कि यह ऑलराउंडर अतिरिक्त उछाल हासिल करने के लिए अपने लंबे कद का अच्छा उपयोग कर सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘हार्दिक गेंद को स्विंग करा सकते हैं और वह लगातार 135 किमी की रफ्तार से गेंद कर सकते हैं। नई गेंद से वह अपने लंबे कद के कारण थोड़ा अतिरिक्त उछाल हासिल कर सकते हैं। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ और न्यूजीलैंड के खिलाफ भी कुछ मैचों में नई गेंद से गेंदबाजी की थी। हम निश्चित तौर पर इसे अपने लिए एक अच्छा विकल्प मानते हैं।’’ कोहली ने कहा, ‘‘टीम में पांचवां गेंदबाज होने के कारण शुरूआती 10 ओवरों में जब गेंद स्विंग कर रही होती है तब हम चार- पांच ओवर इस तरह से करवा सकते हैं। इसके अलावा जसप्रीत बुमराह हमारे स्ट्राइक गेंदबाज हैं जो पहले बदलाव के रूप में आते हैं।’’