निरंजन शाह © Getty Images
निरंजन शाह © Getty Images

सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन ने निरंजन शाह को सीईओ के पद पर नियुक्त किया। बता दें कि पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने शाह को इस पद के लिए अनुचित उम्मीदवार घोषित किया था। कोर्ट का ये फैसला लोढ़ा समिति की सिफारिशों पर आधारित था, जिसमें ये साफ कहा गया था कि 70 साल के ज्यादा उम्र का कोई भी शख्स या किसी एसोसिएशन में 9 साल तक काम कर चुका कोई भी शख्स इस पद पर नियुक्त नहीं किया जा सकता है। शाह 40 साल तक एससीए के सेक्रेटरी रह चुके हैं।

इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, एससीए के शासन निकाय की मई 2017 में हुई बैठक में कहा गया कि, “श्री मधुकर वोरा ने निदेशक शाह से बैठक छोड़ने का अनुरोध करने के बाद, निकाय को ये बताया कि श्री निरंजन शाह को सीईओ पद पर नियुक्त कर लिया गया है जो पहले हुई वार्षिक आम बैठक में तय किया जा चुका था। श्री वोरा ने शाह से पूछा कि वह निकाय को बताएं कि वह किस तारीख से पद पर काम करना शुरू करेंगे।” शाह ने इसके जवाब में कहा कि, “ये फैसला एससीए के संविधान के अनुसार ही लिया गया है लेकिन मैने अभी तक इसे स्वीकार नहीं किया है। निकाय की बैठक के बाद मैने उन्हें यह बता दिया था कि इस मामले पर मैने अभी कोई फैसला नहीं लिया है लेकिन कोर्ट का आदेश मुझे इस पद पर नियुक्त होने से नहीं रोक सकता।”  तीसरे वनडे में विराट कोहली के निशाने पर ‘हैट्रिक’ और ’10वीं सीरीज जीत’

शाह ने आगे कहा, “मुझे ऐसा नहीं लगता, अगर आप लोढ़ा समिति की सिफारिशों को देखेंगे तो उसमें ऐसा कोई नियम नहीं है। कई बड़ी कंपनियों के सीईओ 70 साल से ज्यादा उम्र के हैं। इसमें क्या है, यह भी एक कंपनी है।” शाह भले ही लोढ़ा समिति के नियमों की अनदेखी कर रहे हों लेकिन अगर उन्होंने ये पद स्वीकर किया को कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासनिक समिति इस मामले की रिपोर्ट देश की उच्चतम न्यायपालिका को करेगी।