Nuwan Zoysa denies wrongdoing after being found guilty under ICC anti-corruption code
Nuwan Zoysa @getty (file image)

मैच फिक्सिंग के आरोपों में पहले ही निलंबन का सामना कर रहे श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर नुवान जोयसा पर नवंबर 2018 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की भ्रष्टाचार रोधी संहिता के तहत आरोप लगाए गए थे और गुरुवार को उन्हें सभी आरोपों में दोषी करार दिया गया। श्रीलंका के इस पूर्व अंतरराष्ट्रीय तेज गेंदबाज ने स्वतंत्र भ्रष्टाचार रोधी पंचाट के समक्ष सुनवाई के अपने अधिकार का इस्तेमाल किया था।

जोयसा ने आईसीसी के स्वतंत्र पंचाट द्वारा तीन आरोपों में भ्रष्टाचार का दोषी पाए जाने के बाद शुक्रवार को किसी भी तरह के गलत काम में संलिप्त होने से इनकार किया। आईसीसी ने कहा कि जोयसा निलंबित रहेंगे और उनकी सजा की घोषणा बाद में की जाएगी।

भारतीय टीम के लिए विराट कोहली की कमी पूरी करना असंभव: बॉर्डर

जोयसा ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं उस समय स्तब्ध हो गया जब मुझे बताया गया कि आईसीसी ने प्रेस बयान जारी करके कहा है कि मुझे उन आरोपों का दोषी पाया गया है जो काम मैंने कभी किया ही नहीं।’

जोयसा ने कहा कि 18 सितंबर को सुनवाई खत्म करने वाले आईसीसी को 30 दिन के भीतर फैसला की घोषणा करनी थी लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो उन्होंने वकील को आईसीसी को लिखने के लिए कहा।

टीम इंडिया के लिए सिरदर्द साबित होंगे स्टीव स्मिथ: ग्लेन मैक्सवेल

जोयसा ने कहा कि आईसीसी के जांचकर्ताओं ने उनसे अंग्रेजी में बात की जिसे वह समझ नहीं पाए और उन्होंने साथ ही दावा किया कि उन्हें अपनी मातृभाषा सिंहला में जवाब देने की स्वीकृति नहीं दी गई। इस पूर्व तेज गेंदबाज को यूएई में एक टी20 लीग के दौरान भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोपों में मई 2019 में अस्थाई रूप से निलंबित किया गया था।