न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम ने माउंट मोनगानुई में खेले जा रहे सीरीज के पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड के खिलाफ अपनी स्थिति मजबूत कर ली है. चौथे दिन का खेल खत्म होने तक मेजबान टीम ने मेहमान इंग्लैंड की दूसरी पारी में महज 55 रन पर 3 विकेट झटक लिए.

भारतीय तेज गेंदबाजों के लगातार सफल होने का ये है राज, बॉलिंग कोच भरत अरुण ने किया खुलासा

न्यूजीलैंड ने पहली पारी 9 विकेट पर 615 रन पर घोषित की. अगर इंग्लैंड को अंतिम दिन न्यूजीलैंड को फिर से बल्लेबाजी के लिए उतारना है तो उसे 207 रन और बनाने होंगे.

इंग्लैंड के लिए चौथे दिन स्टंप से पहले दो घंटे का समय काफी मुश्किल रहा जिसमें उसने दोनों सलामी बल्लेबाज डॉम सिबले (12 रन) और रोरी बर्न्स (31 रन) के विकेट गंवा दिए. फिर इसके बाद नाइटवाचमैन जैक लीच (शून्य) भी दिन की अंतिम गेंद पर पवेलियन लौट गए. तीनों विकेट सैंटनर के नाम रहे.

सैंटनर ने वॉटलिंग के साथ की रिकॉर्ड साझेदारी

सैंटनर के लिए यह दिन यादगार रहा जिसमें उन्होंने पहले वॉटलिंग के साथ रिकॉर्ड साझेदारी निभाने के अलावा अपना पहला टेस्ट शतक जड़ा और फिर तीन विकेट हासिल कर लिए.

इंग्लैंड की टीम का पलड़ा तब भारी था जब न्यूजीलैंड की टीम पहली पारी में 197 रन पर पांच विकेट गंवा चुकी थी और उसके शीर्ष खिलाड़ी आउट हो चुके थे जिसमें करिश्माई केन विलियम्सन भी शामिल थे.

लेकिन वॉटलिंग ने पहले कोलिन डि ग्रैंडहोम (65 रन) के साथ 116 रन की भागीदारी निभाई और फिर सैंटनर के साथ रिकॉर्ड बुक में नाम लिखवाकर टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया.

टीम इंडिया ने बांग्लादेश के खिलाफ 2-0 से की क्लीनस्वीप, ये रहे टेस्ट सीरीज जीत के 5 हीरो

वॉटलिंग और सैंटनर दोनों ने टेस्ट में अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर खड़ा किया. वॉटलिंग ने 205 रन बनाकर 2015 में श्रीलंका के खिलाफ नाबाद 142 रन की पिछली सर्वश्रेष्ठ पारी को पीछे छोड़ा. सैंटनर ने भी 126 रन बनाकर 2017 में बांग्लादेश के खिलाफ 73 रन के सर्वश्रेष्ठ स्कोर से बेहतर प्रदर्शन किया.

इन दोनों ने 7वें विकेट के लिए 261 रन की रिकॉर्ड साझेदारी की. यह न्यूजीलैंड के लिए पिछले 225 रन के रिकॉर्ड से बेहतर थी जो 2004 में क्रिस केर्न्स और जैकब ओरम के बीच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ईडन पार्क में बनी थी.

न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड के खिलाफ बनाया अपना सबसे बड़ा स्कोर

जोफ्रा आर्चर के वॉटलिंग का विकेट झटकने के बाद न्यूजीलैंड ने नौ विकेट पर 615 रन के स्कोर पर पारी घोषित कर दी. यह इंग्लैंड के खिलाफ उसका सबसे बड़ा स्कोर भी है, इससे पहले 1973 में लॉर्ड्स पर नौ विकेट पर 551 रन पर पारी घोषित करना उसका सर्वश्रेष्ठ स्केार था.

वॉटलिंग ने अपने दोहरे शतक के लिए 473 गेंद का सामना करते हुए 24 चौके और एक छक्का जमाया. उन्होंने 11 से ज्यादा घंटे तक नदार बल्लेबाजी की. इंग्लैंड ओर से युवा तेज गेंदबाज सैम कर्रन ने 3 विकेट चटकाए.