भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी तेज गेंदबाज इशांत शर्मा वेलिंगटन टेस्ट शुरू होने से महज 72 घंटे पहले न्यूजीलैंड पहुंचे. हाल में इस तेज गेंदबाज को रणजी ट्रॉफी मैच में चोट लग गई थी जिसके बाद उनका टेस्ट सीरीज से बाहर होना लगभग तय था लेकिन ऐन मौके पर वह फिट हुए और 24 घंटे का सफर कर न्यूजीलैंड पहुंच गए. टीम मैनेजमेंट ने इशांत को पहले टेस्ट के लिए प्लेइंग इलेवन में शामिल किया और इशांत ने इस मौके को भुनाने की कोशिश की.

महिला टी20 वर्ल्ड कप के पहले मैच में पूनम यादव ने लगाई रिकॉर्ड्स की झड़ी

इशांत पिछले दो दिन में चार घंटे ही सो सके हैं लेकिन इसका असर पहले टेस्ट में उनके प्रदर्शन पर नहीं पड़ा और न्यूजीलैंड के 3 विकेट लेकर भारत को उन्होंने मैच में बनाए रखा है.

बकौल इशांत, ‘मैं दो दिन से सोया नहीं हूं और आज काफी थकान लग रही थी. मैं जैसे गेंदबाजी करना चाहता था, वैसे कर नहीं पाया हूं. मुझे खेलने के लिए कहा गया और मैं खेला. टीम के लिए कुछ भी कर सकता हूं. ऐसा नहीं है कि मैं अपनी गेंदबाजी से खुश नहीं हूं. मैं अपने शरीर से खुश नहीं था क्योंकि पिछली रात मैं 40 मिनट ही सो सका था. टेस्ट मैच से पहले मैं तीन घंटे ही सो सका था. यात्रा की थकान से जल्दी उबरने से आप मैदान पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकते हैं. अच्छी नींद से बेहतर रिकवरी कुछ नहीं है.’

टी20 में दक्षिण अफ्रीका की सबसे बड़ी हार, एश्टन एगर के सामने मेजबान टीम 89 रन पर हुई ढेर

उन्होंने कहा कि चोट लगने के बाद उन्हें लगा था कि वह टेस्ट मैच नहीं खेल सकेंगे.

उन्होंने कहा ,‘सारा श्रेय एनसीए सहयोगी स्टाफ को जाता है क्योंकि उन्होंने काफी मेहनत की. हमें लगा नहीं था कि मैं टेस्ट खेल सकूंगा क्योंकि चोट ही ऐसी थी. मैंने सोचा कि अगर खेल सका तो खेलूंगा वरना क्या कर सकते हैं. अगर चोट लगनी ही है तो आप टॉयलेट में भी गिर सकते हैं. मैंने एनसीए में दो दिन में 21 ओवर डाले और तभी मुझे लगा कि मैं खेल सकता हूं. इतना लंबा सफर करके यहां आने से हालांकि काफी थकान हो गई.’

भारतीय टीम पहली पारी में महज 165 रन पर ढेर हो गई. न्यूजीलैंड ने इसके जवाब में दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक 5 विकेट पर 216 रन बना लिए हैं. इस तरह न्यूजीलैंड की कुल बढ़त 51 रन की हो गई है.