पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के एक सीनियर अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि देश अंतरराष्ट्रीय मैचों की मेजबानी के लिए सुरक्षित है जिससे अब से बोर्ड अपनी घरेलू सीरीज का आयोजन तटस्थ स्थलों पर करने पर विचार नहीं करेगा।

न्यूजीलैंड की टीम 2005 के बाद पहली बार पाकिस्तान के दौरे पर पहुंची लेकिन सुरक्षा के खतरे हवाला देते हुए एक भी मैच खेले बिना स्वदेश लौट गयी। इंग्लैंड ने भी खिलाड़ियों के हित का हवाला देते हुए पाकिस्तान के दौरे को रद्द करने का फैसला किया।

पीसीबी के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘अब तटस्थ स्थल पर सीरीज कराना समीकरण से बाहर हो गया है। पाकिस्तान में सुरक्षा की स्थिति सामान्य है और हमारे पास किसी भी अंतरराष्ट्रीय टीम की मेजबानी के लिये सबकुछ है। हम अब तटस्थ स्थलों पर श्रृंखला की मेजबानी नहीं करेंगे।’’

पाकिस्तान ने अपनी कुछ घरेलू सीरीज की मेजबानी संयुक्त अरब अमीरात में की है क्योंकि टेस्ट खेलने वाले बड़े देश 2009 में श्रीलंकाई टीम पर हुए आंतकी हमले के बाद पाकिस्तान का दौरा करने से बचते थे। लेकिन धीरे धीरे पाकिस्तान में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट बहाल होने लगा और फिर पाकिस्तान सुपर लीग भी आयोजित की गयी।

दो दौरे रद्द होने के बाद पीसीबी ने टी20 विश्व कप से पहले घरेलू सरजमीं पर एक अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला कराने के लिये कुछ क्रिकेट बोर्ड से संपर्क किया था लेकिन अब उसने एक घरेलू टूर्नामेंट आयोजित करने का फैसला किया है।

अधिकारी ने कहा, ‘‘कुछ बोर्ड के साथ शुरुआती चर्चा की गयी थी जिसमें श्रीलंका, बांग्लादेश और जिम्बाब्वे शामिल हैं लेकिन फिर राष्ट्रीय टी20 चैम्पियनशिप पर ही ध्यान लगाने का फैसला किया गया क्योंकि इस टूर्नामेंट के लिये सभी मुख्य खिलाड़ी उपलब्ध हैं और अब यह हमारे लिये विश्व कप से पहले तैयारी टूर्नामेंट के तौर पर काम करेगा।’’

उन्होंने कहा कि श्रीलंकाई खिलाड़ी 17 अक्टूबर से अपने विश्व कप क्वालीफाइंग मैचों से पहले एक ट्रेनिंग शिविर के लिये ओमान में होंगे। उन्होंने कहा, ‘‘बांग्लादेश अपनी बी टीम भेजने को सहमत था और जिम्बाब्वे भी आने को तैयार था लेकिन चर्चा करने के बाद हमने फैसला किया कि समय कम है तो बेहतर होगा कि ध्यान घरेलू प्रतियोगिता पर लगाया जाए।’’

अधिकारी ने कहा कि न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू श्रृंखला रद्द होना देश के लिये बड़ा झटका था लेकिन ये देखकर खुशी हुई कि क्रिकेट जगत को पाकिस्तान क्रिकेट के प्रति सहानुभूति है। उन्होंने कहा, ‘‘करीब करीब हर कोई मानता है कि पाकिस्तान क्रिकेट के साथ बुरा बर्ताव किया गया और देश उचित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का हकदार है।’’

बोर्ड अब विश्व कप टीम और रिजर्व खिलाड़ियों को थोड़ा पहले संयुक्त अरब अमीरात भेजने की योजना बना रहा है ताकि वे अपना पृथकवास पूरा करके परिस्थितियों के अनुकूल हो सकें। वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के दौरों के बारे में पूछने पर अधिकारी ने कहा कि बोर्ड उनके साथ संपर्क में है।

उन्होंने कहा, ‘‘हम जानते हैं कि न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के हटने से हालात सही नहीं हैं लेकिन हम सिर्फ इतना कर सकते हैं कि दौरा करने वाली टीम की संतुष्टि के लिये सर्वश्रेष्ठ सुरक्षा इंतजाम करें। हम अब हर परिस्थिति के लिये तैयार हैं।’’