2007 विश्व कप के दौरान भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए ग्रुप मैच के टाई होने पर जब अंपायर दोनों टीमों को 5-5 प्वाइंट के बॉल-आउट के जरिए नतीजा निकालने का मौका दिया तो फैंस समेत खिलाड़ी भी काफी उत्साहित हुए। भारत की और से रॉबिन उथप्पा (Robin Uthappa), वीरेंदर सहवाग (Virender Sehwag) और हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने लगातार तीन अंक लेकर भारत को विजेता बनाया, जबकि पाकिस्तान का एक भी गेंद विकेट पर नहीं मार पाया।

टूर्नामेंट के 13 साल बाद अब उस टीम का हिस्सा रहे तेज गेंदबाज इरफान पठान ने बताया कि बॉल-आउट पाक टीम के गेंदबाजों के खराब प्रदर्शन का कारण ये था कि उनके कप्तान शोएब मलिक को इस बारे में कुछ पता ही नहीं था।

स्टार स्पोर्ट्स के एक शो के दौरान पठान ने कहा, “पाकिस्तान के कप्तान ने प्रेस कॉन्फ्रें में माना था कि उन्हें बॉल-आउट के बारे में नहीं पता था। जब बॉलआउट का समय आया तो, उन्हें नहीं पता था कि पूरा रन-अप लें या आधा। दूसरी ओर हम बॉल-आउट के लिए तैयारी करके आए थे और नतीजा साफ था।”

पठान ने आगे कहा, “दोनों टीमों के बीच कोई प्रतियोगिता थी ही नहीं। जब रेगुलर मैच चल रहा था तो दोनों टीमों में कड़ी प्रतिद्वंद्विता था और ये एक करीबी मुकाबला था। लेकिन बॉल-आउट के दौरान कोई मुकाबला नहीं था।”

किंग्समीड, डरबन में खेले गए मैच में मलिक ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया था। रॉबिन उथप्पा की अर्धशतकीय पारी के बावजूद मोहम्मद आसिफ की अगुवाई वाले घातक गेंदबाजी अटैक का सामना करते हुए टीम इंडिया ने 20 ओवर में 9 विकेट पर 141 रन बनाए थे।

जिसके जवाब में पाक टीम ने मिसबाह उल हक के अर्धशतक के दम पर 20 ओवर में 7 विकेट खोकरल 141 रन बनाए थे। आखिरी ओवर में श्रीसंत की शानदार गेंदबाजी और युवराज सिंह की बेहतरीन फील्डिंग के दम पर मिसबाह को रन आउट कर भारत मैच टाई करने में सफल हो सका था। और बॉल-आउट में भारत ने पाकिस्तान को 3-0 से हराया।