© Getty Images
© Getty Images

‘जिस तरह से दाएं हाथ का बल्लेबाज अचानक से हाथ बदलकर बाएं हाथ का बल्लेबाज बन जाता है और शॉट खेलकर गेंदबाज को चौंका देता है, ठीक वैसे ही गेंदबाज को भी हाथ बदलने की इजाजत मिलनी चाहिए।’ ये बयान है पाकिस्तानी गेंदबाज यासिर जान का, जिन्होंने आईसीसी से स्विच आर्म गेंदबाजी करने की इजाजत मांगी है। पाकिस्तान सुपर लीग की खोज माने जाने वाले यासिर जान लाहौर कलंदर के लिए खेले थे और वो दोनों हाथों से तेज गेंदबाजी कर सकते हैं। मौजूदा दौर में कुछ ही ऐसे गेंदबाज हैं जो दोनों हाथ से गेंदबाजी कर सकते हैं लेकिन यासिर जान ऐसा करने वाले शायद इकलौते तेज गेंदबाज हैं।

यासिर जान दाएं हाथ से 145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंक सकते हैं जबकि बाएं हाथ से भी वो 135 से 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकते हैं। यासिर जान के टैलेंट को सबसे पहले पूर्व पाकिस्तान तेज गेंदबाज आकिब जावेद ने पहचाना। आकिब जावेद ने यासिर जान के बारे में कहा, ‘यासिर नेट्स पर सीधे हाथ से गेंद फेंक रहा था लेकिन फिर वो मेरे पास आया और कहा कि वो बाएं हाथ से भी गेंद फेंक सकता है। ये मेरे लिए काफी चौंकाने वाला था क्योंकि मैंने आज तक किसी को ऐसा करते नहीं देखा था। मैंने कई खिलाड़ियों को दोनों हाथों से थ्रो फेंकते देखा है लेकिन दोनों हाथ से तेज गेंदबाजी करने वाले से मैं पहली बार मिला। ये बेमिसाल टैलेंट है।’ [ये भी पढ़ें: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, चेन्नई वनडे: जब केदार जाधव की गलती पर भड़क उठे धोनी]

आप सोचिए अगर आईसीसी गेंदबाजों को हाथ बदलकर गेंदबाजी करने की इजाजत दे देती है तो यासिर जान जैसा गेंदबाज दुनिया के किसी भी बल्लेबाज को चकमा देकर उसे आउट कर सकता है। यासिर चाहते हैं कि एमसीसी को गेंदबाजों के हक में ये बदलाव करना चाहिए। वैसे आपको बता दें भारत में विदर्भ के स्पिन गेंदबाज अक्षय करनेवार भी दोनों हाथों से गेंद फेंक सकते हैं। अभी हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में उन्होंने एक ही ओवर में दोनों हाथ से गेंदबाजी कर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को चौंका दिया था।