Paul Farbrace to leave England team’s assistant coach job for Warwickshire Club
Paul Farbrace worked with the England team until earlier this year. © Getty

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के सहायक कोच पॉल फारब्रेस वेस्टइंडीज का दौरा खत्म होने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। दरअसल फारब्रेस काउंटी क्लब वार्विकशायर से बतौर स्पोर्ट्स डायरेक्टर जुड़ने जा रहे हैं और इसके चलते उन्होंने राष्ट्रीय टीम के सहायक कोच का पद छोड़ने का फैसला किया है।

ये भी पढ़ें: इंग्लैंड के खिलाफ अभ्यास मैच में स्मृति मंधाना पर रहेगी नजर

साल 2014 से इग्लैंड टीम के साथ काम कर रहे फारब्रेस का ये फैसला इंग्लैंड के सबसे अहम क्रिकेट साल की शुरुआत से ठीक पहले आया है, जिसने सभी को हैरान किया है। विश्व कप और एशेज सीरीज के साथ इंग्लैंड के लिए साल 2019 काफी बड़े टूर्नामेंट्स से भरा होने वाला है।

इस बारे में बात करते हुए, फारब्रेस ने कहा: “मेरे पास इंग्लैंड क्रिकेट के साथ बिताए पांच शानदार साल हैं। ये विश्वस्तरीय कोचों, खिलाड़ियों और सहायक कर्मचारियों के साथ काम करने का शानदार अनुभव रहा है। मैं कुछ वास्तविक सफलता का स्वाद चखने को लेकर भाग्यशाली रहा हूं। मुझे कुछ उत्कृष्ट खिलाड़ियों के विकास का हिस्सा बनने का मौका मिला, जिनके सामने ये अहम सीजन है।

ये भी पढ़ें: आईसीसी विश्व कप जीतना सबसे बड़ा सपना: कुलदीप यादव

अपने पद को छोड़ने के समय पर उठ रहे सवालों पर उन्होंने कहा, “अंतर्राष्ट्रीय सेट-अप को छोड़ने का कोई अच्छा समय नहीं होता है और इंग्लिश क्रिकेट के लिए ये एक शानदार सीजन होगा, इसके बावजूद खेल के सबसे बड़े काउंटी क्लब में से एक के भविष्य को आकार देने का अवसर बहुत बड़ा था। ये कठिन था, पहले जब वार्विकशायर ने मुझे नियुक्त करने में दिलचस्पी दिखाई थी तो मैंने मना कर दिया था।”

उन्होंने आगे कहा, “मैं इस अवसर के लिए बहुत आभारी हूं जो कि वार्विकशायर के अध्यक्ष नॉर्मन गसकोइग्ने और मुख्य कार्यकारी नील स्नोबॉल ने मुझे दिया है और मैं अपने करियर के विकास में एक नया अध्याय शुरू करने की आशा कर रहा हूं। आखिर में मैं ईसीबी को धन्यवाद देना चाहता हूं, और खास तौर पर, ट्रेवर बेलिस, इयोन मॉर्गन, जो रूट और एशले जाइल्स को, मैं उनके समर्थन के लिए शुक्रगुजार हूं। ये कठिन फैसला था। मैं उन्हें इस सीजन में सफलता की शुभकामना देता हूं। मुझे लगता है उनके पास इस जुलाई विश्व कप ट्रॉफी उठाने और फिर एशेज जीतने की काबिलियत है।”