भारत और पाकिस्तान के बीच सालों से द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली गई है  © Getty Images
भारत और पाकिस्तान के बीच सालों से द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली गई है © Getty Images

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने भारत बनाम पाकिस्तान बाई-लैटरल सीरीज के मामले को लेकर बीसीसीआई के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का मन बना लिया है। पीसीबी के अध्यक्ष नजम सेठी ने इंग्लैंड में एक ब्रिटिश फर्म के साथ बैठक में इस मामले को लेकर कानूनी सलाह ली है। साथ ही बोर्ड ने मुकदमे के लिए 1 मिलियन डॉलर का बजट भी पास कर दिया है। पीसीबी के एक अधिकारी ने ने पीटीआई से बातचीत में कहा, “पीसीबी को बताया गया है कि हमारे ये केस जीतने की संभावना बहुत ज्यादा है, ऐसे में हम किसी भी दिन आईसीसी के साथ औपचारिक तौर पर मुकदमा दर्ज करेंगे।”

दरअसल साल 2014 में बीसीसीआई और पीसीबी के बीच समझौता हुआ था जिसके मुताबिक दोनों देशों की क्रिकेट टीमों को 2015 से 2023 तक कुल 6 द्विपक्षीय सीरीज खेलनी थी लेकिन ऐसा हुआ नहीं। भारत और पाकिस्तान ने पिछले कई सालों से एक भी बाई-लैटरल सीरीज नहीं खेली है। जिस वजह से पाकिस्तान क्रिकेट को आर्थिक रूप से काफी नुकसान हुआ है। अधिकारी ने आगे कहा, “पीसीबी को पूरा यकीन है कि हम सफल होंगे क्योंकि 2015 से हमने बीसीसीआई को कई बार कहा कि अगर उनकी सरकार टीम को पाकिस्तान भेजने को राजी नहीं है तो दोनों टीमें किसी तीसरे देश में खेल सकती हैं।” [ये भी पढ़ें: कुलदीप-चहल के रहते वनडे में वापसी नहीं कर पाएंगे अश्विन-जडेजा!]

बीसीसीआई ने इस मामले को लेकर साफ कहा था कि बिना भारतीय सरकार की अनुमति के ना तो टीम इंडिया पाकिस्तान जाएगी और ना ही पाक टीम भारत आ सकेगी। दोनों टीमें आखिरी बार इंग्लैंड में आयोजित आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में खेलती नजर आईं थी। लॉर्ड्स में खेले गए इस मैच में पाकिस्तान ने भारत को हरा पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीता था। हाल ही में पीसीबी ने वर्ल्ड इलेवन टीम के दौरे का सफल आयोजन किया था, जिसके बाद वेस्टइंडीज और श्रीलंका जैसी टीमें भी पाकिस्तान आने को तैयार हो गई हैं।