भारतीय क्रिकेट बोर्ड का साफ कहना है कि उन्हें पाकिस्तान में एशिया कप का आयोजन कराए जाने से कोई तकलीफ नहीं है लेकिन टीम इंडिया किसी भी सूरत में पाकिस्तान दौरे पर नहीं जाएगी। बीसीसीआई की अपील है कि एशिया कप का वेन्यू न्यूट्रल होना चाहिए, क्योंकि भारतीय टीम के सामने पाकिस्तान जाने का विकल्प ही नहीं है।

खबरों के मुताबिक बीसीसीआई चाहता है कि पीसीबी टूर्नामेंट की मेजबानी शौक से करे लेकिन भारतीय टीम के मैचों का आयोजन किसी न्यूट्रल वेन्यू पर किया जाए, जैसे यूएई।

बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, “सवाल ये नहीं है कि पीसीबी मेजबानी कर रही है। ये टूर्नामेंट के स्थल की बात है। अभी इस समय जैसी चीजें हैं, ये साफ है कि हमें न्यूट्रल वेन्यू चाहिए होंगे। ऐसी कोई संभावना नहीं है कि भारत मल्टी नेशन टूर्नामेंट में हिस्सा लेने भी पाकिस्तान जाए।”

अधिकारी ने आगे कहा, “अगर एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) इस बात से खुश है कि एशिया कप बिना भारत के हो तो ये अलग बात है। लेकिन अगर भारत को एशिया कप का हिस्सा होना है तो ये जरूरी है कि टूर्नामेंट पाकिस्तान में ना हो।”

New Zealand vs India: जानें कब और कहां खेला जाएगा तीसरा टी20 मैच

2018 में एशिया कप भारत में होना था, लेकिन पाकिस्तानी खिलाड़ियों को लेकर वीजा की समस्या हुई थी। इस वजह से एशिया कप संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराया गया था और इसकी मेजबानी बीसीसीआई ने की थी। अधिकारी ने कहा कि पीसीबी भी यही कर सकती है। उन्होंने कहा, “न्यूट्रल वेन्यू हमेशा विकल्प में रहते हैं। बीसीसीआई ने 2018 में ये किया था।”

पाकिस्तान में 2009 में श्रीलंका क्रिकेट टीम की बस पर आतंकवादियों में हमला कर दिया था तब से पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं हुआ था, लेकिन हाल ही में श्रीलंका ने पाकिस्तान का दौरा किया और अभी इस समय बांग्लादेश भी दौरे पर है।

हालांकि भारत और पाकिस्तान का मुद्दा इससे भी ज्यादा है। दोनों देशों के बीच राजनीतिक संबंधों के कारण यह स्थिति है कि भारत किसी भी सूरत में मौजूद हाल में पाकिस्तान का दौर नहीं कर सकता।