उमर अकमल © AFP
उमर अकमल © AFP

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की जांच समिति ने उमर अकमल पर तीन मैचों के बैन के साथ जुर्माना लगाए जाने का फैसला किया है। पाकिस्तानी क्रिकेटर अकमल पर खिलाड़ियों के लिए बनाए गए कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघन करने का आरोप है। इस बारे में पीटीआई ने एक पीसीबी अधिकारी के हवाले से लिखा कि जांच समिति के प्रमुख हरून राशिद ने उमर पर तीन मैचों का बैन और जुर्माना लगना का फैसला दिया है। साथ ही उन्होंने ये सुझाव दिया है कि कुछ समय के लिए विदेशी लीगों में खेलने के लिए मिला उनका एनओसी भी रद्द कर दिया जाय। अधिकारी ने कहा, “उमर और दूसरे खिलाड़ियों से बातचीत के बाद समिति ने उमर को तीन नियम तोड़ने का दोषी पाया और आगे की कार्यवाही के लिए समिति ने अपने सुझाव पीसीबी चेयरमैन नजम सेठी को भेजे हैं।”

बता दें कि उमर ने पिछले महीने राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में अभ्यास करने के दौरान पाकिस्तान टीम के कोच मिकी ऑर्थर से बहस की थी। बाद में उन्होंने मीडिया में बयान दिया था कि ऑर्थर ने उन्हें अपशब्द कहे। अधिकारी ने साफ किया कि समिति का काम केवल यह पता करना था कि उमर ने कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघन किया है या नहीं। उन्होंने कहा, “समिति ने उमर द्वारा ऑर्थर पर लगाए आरोपों पर गौर नहीं किया है। समिति ने उमर को कोड ऑफ कंडक्ट तोड़ने का दोषी पाया है और अब चेयरमैन ये फैसला करेंगे कि ऑर्थर द्वारा अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने के आरोपों की जांच की जरूरत है या नहीं। उमर ने सीधे मीडिया के पास जाकर कोच की बुराई कर तीन नियमों का उल्लंघन किया है।” [ये भी पढ़ें: मैच प्रिव्यू: बैंगलोर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत का ‘चौका’ लगाने उतरेगी टीम इंडिया]

अब यह फैसला पूरी तरह से बोर्ड पर है कि वह उमर पर तीन मैचों का बैन लगाता है या फिर नियम तोड़ने के लिए और बड़ी सजा देता है। बता दें कि इन नियमों को तोड़ने की सबसे बड़ी सजा है पांच मैचों का बैन और लगभग 5 मिलियन रूपए का जुर्माना है। चेयरमैन अगर चाहें तो जुर्माने को घटा भी सकते हैं। साथ ही विदेशी लीग खेलने के लिए उमर को मिली एनओसी को रद्द करने को लेकर भी आखिरी फैसला सेठी ही करेंगे। फिलहाल चेयरमैन विदेश में हैं और उनके पाकिस्तान लौटेंगे पर ही इस मामले का निपटारा हो सकेगा।