Plan was to struggle till the end without thinking about the outcome: Ajinkya Rahane
अजिंक्य रहाणे (IANS)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच को ड्रा करने के बाद भारतीय कप्तान अजिंक्य रहाणे ने कहा कि पांचवें दिन के खेल के पहले टीम की योजना नतीजे के बारे में सोचे बिना आखिर तक संघर्ष करने की थी। रिषभ पंत (97) और चेतेश्वर पुजारा (77) के बाद हनुमा विहारी और रविचंद्रन अश्विन ने पूरे सेशन में बल्लेबाजी कर ऑस्ट्रेलिया की जीत की उम्मीद को तोड़ा।

रहाणे ने मैच के बाद कहा, ‘‘दिन का खेल शुरू होने से पहले हमने अपना जज्बा दिखाने और अंत तक संषर्ष करने के बारे में बात की थी। हम परिणाम के बारे में नहीं सोच रहे थे। जिस तरह से आज हमने संघर्ष किया खासकर पूरे मैच में उससे वास्तव मैं खुश हूं। पहली पारी में भी ऑस्ट्रेलियाई टीम दो विकेट पर 200 रन बनाकर अच्छी स्थिति में थी लेकिन हमने उन्हें 338 रन पर आउट करके वापसी की।’’

रहाणे ने कहा कि पंत को हनुमा विहारी से पहले पांचवे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए इसलिए भेजा गया ताकि क्रीज पर बाय और दायें हाथ के बल्लेबाजों का संयोजन बनाया जा सके।

रिषभ पंत की पारी ने खेल को भारत के पक्ष में सेट किया: अश्विन

कप्तान ने कहा, ‘‘विहारी और अश्विन की तारीफ करनी होगी लेकिन ऐसे कुछ क्षेत्र हैं जहां हम (चौथे टेस्ट से पहले) सुधार सकते हैं। जिस तरह से उन्होंने अंत में बल्लेबाजी की और जज्बा दिखाया वो वास्तव में अच्छा था। पंत ने जिस तरह से बल्लेबाजी की, उसे भी श्रेय दिया जाना चाहिए।’’

भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी की चौथा और आखिरी मैच ब्रिसबेन के गाबा स्टेडियम में खेला जाना है। गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलियाई टीम 1988 के बाद इस मैदान पर कोई टेस्ट मैच नहीं हारी है।