भारत ने बीते साल के अंत में बांग्‍लादेश के खिलाफ अपना डेब्‍यू डे-नाइट मैच (Day Night Test) खेला. इस मैच में टीम इंडिया ने बड़ी जीत दर्ज की. इसके बाद अब आगामी ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर (India Tour of Australia) भारत के पिंक बॉल टेस्‍ट (Pink Ball Test) खेलने का रास्‍ता भी अब साफ हो गया है. टेस्‍ट विशेषज्ञ चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने स्वीकार किया कि डे-नाइट टेस्ट बल्लेबाजों के लिये अलग तरह की चुनौती होगा क्योंकि गुलाबी गेंद की रफ्तार और दृश्यता पारंपरिक लाल गेंद से काफी अलग होती है.

चेतेश्‍वर पुजारा ने ‘सोनी टेन पिट स्टॉप’ शो पर कहा ,‘‘ दिन रात का टेस्ट या गुलाबी गेंद से खेलना , यह लाल गेंद से खेलने से बिलकुल अलग है. प्रारूप भले ही एक है लेकिन गुलाबी गेंद की रफ्तार और वह दिखने में अलग होती है. बल्लेबाज को इसकी आदत डालनी होगी.’’

उन्होंने कहा कि एसजी लाल गेंद से खेलने के आदी खिलाड़ियों के लिये गुलाबी गेंद चुनौतीपूर्ण होगी. चेतेश्‍वर पुजारा ने कहा ,‘‘यह आसान नहीं होगा. नेट पर काफी अभ्यास करना होगा. घरेलू स्तर पर यह आसान नहीं है. रणजी ट्रॉफी में एसजी लाल गेंद से खेलने वालों के लिये यह कठिन है. इसके लिये काफी अभ्यास चाहिये.’’

दिसंबर में होने वाले ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर भारत को चार टेस्‍ट मैच, तीन वनडे मुकाबले खेलने हैं. वहीं, टी20 विश्‍व कप से ठीक पहले भारत मेजबान टीम के खिलाफ तीन टी20 मैचों की सीरीज खेलेगा.