पाकिस्तानी कप्तान सरफराज अहमद ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दूसरे मुकाबले में 94 रन की पारी खेल आलोचकों को करारा जवाब दिया है। पहले टेस्ट मैच में विकेटकीपिंग में चूक करने वाले कप्तान ने महज 15 रन बनाए थे। इस प्रदर्शन के बाद उनकी लगातार आलोचना की जा रही थी।

अबू धाबी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले जा रहे दूसरे मुकाबले में सरफराज अहमद ने कप्तानी पारी खेल टीम को मुश्किल से निकाला। 57 रन पर पांच विकेट गिरने के बाद सरफराज ने पहला टेस्ट खेल रहे फखर जमां के साथ मिलकर छठे विकेट के लिए 147 रन की साझेदारी निभाई।

सरफराज ने पहले दिन के खेल के बाद कहा, ”हां बिल्कुल दबाव तो जरूर था। हर तरफ से और बहुत सारा दबाव था। किसी ने कहा -टेस्ट क्रिकेट छोड़ दो, किसी ने कहा -कप्तानी छोड़ दो, कुछ ने तो यहां तक कहा की इसको टीम से बाहर ही कर दो।”

आगे उन्होंने कहा, ”जब यह सबकुछ होता है और आप रन बनाते हैं तो बहुत ज्यादा राहत मिलती है। खासकर तब जबकि आपकी टीम के 57 रन पर 5 विकेट गिर गए हों।”

कप्तान सरफराज ने फखर के बारे में कहा, ”फखर ने लाजवाब पारी खेली। मुझे उनके होने से काफी आत्मविश्वास मिला क्योंकि मुझे पसंद है जब बल्लेबाज स्ट्राइक रोटेट करता है। उन्होंने ऐसा किया और पहली टेस्ट पारी में शानदार बल्लेबाजी की। अच्छा करने का श्रेय उनको मिलना चाहिए।”