शरजील खान और खालिद लतीफ © Getty Images
शरजील खान और खालिद लतीफ © Getty Images

पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाजों शरजील खान और खालिद लतीफ पर तीन सदस्यीय एंटी करप्शन ट्राइब्यूनल लंबा प्रतिबंध और भारी जुर्माना लगा सकता है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में स्पॉट फिक्सिंग मामले की जांच के लिए इस ट्राइब्यूनल का गठन किया था। लाहौर हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश की अगुआई में बना ये ट्राइब्यूनल शरजील खान के मामले में 30 अगस्त को फैसला सुना सकता है। शरजील का फैसला सुनाने के बाद खालिद लतीफ पर फैसला सुनाया जाएगा। इन दोनों पर 2-5 साल का प्रतिबंध और 20 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

पीसीबी अधिकारी ने पीटीआई को बताया, ‘ट्राइब्यूनल जब अगले महीने की शुरुआत में फैसला सुनाएगा तो दोनों क्रिकेटरों पर समान प्रतिबंध लगने की संभावना है।’ पीसीबी ने इस मामले में अंतिम बहस पूरी कर ली है और शरजील-खालिद के खिलाफ सभी सबूत सौंप दिए हैं। इन दोनों को फरवरी में पीएसएल के दूसरे दिन दुबई से पाकिस्तान भेज दिया गया था। शरजील खान पाकिस्तान सुपर लीग के पहले मैच जो कि इस्लामाबाद यूनाइटेड और पेशावर जाल्मी के बीच खेला गया था उसमें स्पॉट फिक्सिंग के दोषी पाए गए हैं। एम एस धोनी ने क्यों कहा था कि अगर ‘एक पैर’ बचेगा तब भी खेलूंगा पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबला

पाकिस्तान सुपर लीग के दूसरे सीजन में शरजील खान और खालिद लतीफ के अलावा 3 और खिलाड़ियों का नाम स्पॉट फिक्सिंग में आया था। मोहम्मद सामी, मोहम्मद इरफान और उमर अकमल भी स्पॉट फिक्सिंग के मामले में सामने आये लेकिन इनके खिलाफ ज्यादा सबूत न मिलने की वजह से इन खिलाड़ियों को क्रिकेट खेलने की इजाजत दे दी गई थी।