r ashwin reacts on media said i will never ask for relaxation for doosra
रविचंद्रन अश्विन @BCCITwitter

भारत के स्टार ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने हाल ही में अपने तमिल यूट्यबू चैनल ‘द लीजेंड ऑफ द दूसरा’ में साउथ अफ्रीका के पूर्व ‘परफॉरमेंस’ विश्लेषक प्रसन्ना अगोराम से चर्चा की थी. इस चर्चा के दौरान अश्विन ने ऑफ स्पिनरों की घातक गेंद ‘दूसरा’ पर काफी चर्चा की थी. मीडिया में इस चर्चा के हवाले से यह खबरें प्रकाशित हुई थीं कि अश्विन आईसीसी से चाहते हैं कि वह इस गेंद के लिए गेंदबाजों को 15 डिग्री कोहनी मोड़ने में कुछ और ढील दे और इसे स्वीकार्य स्तर तक जाने की छूट दे. लेकिन अश्विन ने टि्वटर पर इस बात का खंडन किया है और साथ ही लिखा है कि वह ऐसा कभी नहीं कह सकते.

मीडिया में आई खबरों के अनुसार, अश्विन के हवाले से कहा गया था कि वह चाहते हैं आईसीसी इस नियम में 15 डिग्री की बजाए गेंदबाजों को दूसरा फेंकने के लिए कोहनी के एंगल में 22-22 डिग्री तक मोड़ने की छूट दे. अश्विन ने इस संदर्भ में प्रकाशित एक न्यूज के लिंक पर ट्वीट करते हुए लिखा, ‘गलत गलत गलत!! मेरे चैनल ने सभी सही कारणों के लिए किया था, जिससे दर्शक क्रिकेट को और बेहतर समझ सकें. अगर आप अनुवाद करने में आधारभूत तत्व को नहीं पा सकते, कृपया तब ऐसी खराब खबरें न बनाएं.’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘कृपया गलत खबरें न लें. मैं कभी भी ऐसी बात नहीं कहूंगा.’ बता दें अश्विन ने अपने इस चैनल पर ‘दूसरा’ गेंद को लेकर विस्तृत चर्चा की थी. इस दौरान उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज सकलेन मुश्ताक दुनिया के इकलौते ऐसे गेंदबाज थे, जिन्होंने इस गेंद का ईजाद किया और वह इस गेंद को पूरे वैध तरीके से फेंकने में माहिर थे.

उन्होंने कहा, ‘सकलेन ने ‘दूसरा’ फेंकने की शुरुआत की और ‘रॉन्ग उन’ गेंदबाजी करने वालों में मुथैया मुरलीधरन, हरभजन सिंह और सईद अजमल शामिल हैं.’