टीम इंडिया के पूर्व टेस्ट बल्लेबाज वसीम जाफर (Wasim Jaffer) ने राय दी है कि भारत के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को भारतीय टीम का स्थायी कोच नहीं बनना चाहिए. जाफर ने कहा कि उनकी राय में क्रिकेट के शीर्ष स्तर पर उनकी जरूरत नहीं है. वसीम जाफर अपने यूट्यूब चैनल पर यह चर्चा कर रहे थे.

बता दें राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) इन दिनों भारतीय टीम के एक दल के साथ श्रीलंका दौरे पर हैं. यहां टीम इंडिया शिखर धवन (Shikhar Dhawan) के नेतृत्व में तीन वनडे और 3 टी20 मैचों की सीरीज खेलेंगे. इस टीम में सीनियर और युवा खिलाड़ियों का अच्छा मिश्रण मौजूद है. द्रविड़ यहां खिलाड़ियों को मैदान पर रणनीतियां तैयार करने में मदद करेंगे.

जाफर (Wasim Jaffer) ने कहा कि जो खिलाड़ी द्रविड़ के साथ इस दौरे पर गए हैं उन्हें निश्चित तौर पर द्रविड़ (Rahul Dravid) के अनुभव का बहुत फायदा होगा. लेकिन इसके बावजूद वह मानते हैं कि उन्हें टीम इंडिया का स्थायी कोच नहीं बनना चाहिए. जाफर ने इसकी वजह भी बताई है. उन्होंने कहा, ‘भारतीय टीम एक साथ दो-दो देशों का दौरा कर रही है. यह दर्शाता है कि भारत की बेंच स्ट्रेंथ कितनी मजबूत है और उसके पास कितने बेहतरीन खिलाड़ी उपलब्ध हैं.’

43 वर्षीय जाफर (Wasim Jaffer) ने कहा, ‘इसका श्रेय बीसीसीआई के साथ-साथ राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को जाता है. जिस तरह से वह एनसीए में काम कर रहे हैं और उन्होंने भारत A और भारत की अंडर 19 के साथ मिलकर जो काम किया है. वह युवाओं को बेहतर क्रिकेटर बनाने में अहम भूमिका निभा रहे हैं.’

https://youtu.be/iQ60solO2N0

जाफर ने कहा, ‘इसी वहज से मैं चाहता हूं कि उन्हें टीम इंडिया का कोच नहीं बनना चाहिए क्योंकि उनकी जरूरत भारत A और अंडर 19 के युवाओं को तैयार करने में है. टीम इंडिया में पहुंच चुका खिलाड़ी तो पूरी तरह तैयार हो चुका होता है. लेकिन जो युवा भारतीय टीम में खेलने का सपना देखते हैं वह निचले स्तर पर अगर द्रविड़ का मार्गदर्शन पाते हैं तो उनके करियर के लिए यह अहम साबित होता है. इसलिए ही मैं चाहता हूं कि द्रविड़ (Rahul Dravid) एनसीए, अंडर- 19 और भारत A के लिए ही अपनी यह भूमिका निभाएं.’