© Getty Images
© Getty Images

एम एस धोनी ये नाम वर्ल्ड क्रिकेट में कई खूबियों के लिए जाना जाता है। सबसे कूल कप्तान, सबसे चालाक विकेटकीपर और दुनिया का सबसे बड़ा मैच फिनिशर। जी हां इसमें कोई दो राय नहीं कि एम एस धोनी दुनिया के सबसे बड़े मैच फिनिशर हैं। वो जब क्रीज पर उतरते हैं तो मैच जिताकर ही लौटते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एम एस धोनी पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ से डांट खाने के बाद इतने बड़े मैच फिनिशर बने।

जी हां चौंकिए नहीं, इंडिया टीवी से खास बातचीत में वीरेंद्र सहवाग ने इस बात का खुलासा किया। सहवाग ने कहा, ‘राहुल द्रविड़ की कप्तानी में एम एस धोनी को मैच फिनिशर का रोल मिला। उन्होंने कई मैच टीम इंडिया को जिताए, लेकिन इससे पहले उन्हें एक-दो मैच में राहुल द्रविड़ से डांट भी मिली। दरअसल वो जल्दी आउट हो गए थे इसीलिए उन्हें डांटा गया। लेकिन इसके बाद एम एस धोनी ने अपना खेल बदल लिया और युवराज सिंह के साथ मिलकर एम एस धोनी ने कई मैच जिताए।’

वीरेंद्र सहवाग ने ये भी खुलासा किया कि शुरुआती दिनों में टीम इंडिया के कई खिलाड़ियों को एम एस धोनी की बल्लेबाजी पर संदेह था। सभी को लगता था कि धोनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में ज्यादा कामयाब नहीं हो पाएंगे। लेकिन सिर्फ वीरेंद्र सहवाग को धोनी की बल्लेबाजी पर भरोसा था। सहवाग ने कहा, ‘एम एस धोनी जहीर या नेहरा की गेंद पर पुल मारकर आउट हुए थे। कुछ सीनियर खिलाड़ियों ने कहा कि धोनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में नहीं चल पाएंगे लेकिन मैं था जिसने कहा कि धोनी रन बना सकता है। मुझे धोनी को देखकर अपने शुरुआती दिन याद आए। एक खिलाड़ी को मौका मिलेगा और वो थोड़ा अनुभव हासिल करेगा तभी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में रन बना सकता है।’ टी20 सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को हराकर पाकिस्तान से जीतेगी टीम इंडिया!

सहवाग ने एम एस धोनी के करियर में सौरव गांगुली के रोल को बहुत अहम बताया। सहवाग ने कहा, ‘कप्तान सौरव गांगुली ने अपनी जगह एम एस धोनी को नंबर 3 पर खेलने का मौका दिया। धोनी ने विशाखापट्टनम वनडे में ताबड़तोड़ पारी खेली। गांगुली जैसे कप्तान बहुत कम होते हैं जो कि अपना बैटिंग नंबर छोड़कर युवा खिलाड़ी को मौका देते हैं।’

सहवाग ने धोनी के हेयरस्टाइल पर भी बेहद दिलचस्प बयान दिया। सहवाग ने खुलासा किया कि टीम इंडिया का कोई खिलाड़ी धोनी के बड़े बालों पर ध्यान नहीं देता था। सभी खिलाड़ी सिर्फ प्रैक्टिस और मैच पर ध्यान रखते थे। वैसे धोनी को अपने बालों से प्रयोग करना अच्छा लगता था। वो बालों को छोटा-बड़ा करते रहते थे।