Rajasthan Royals Well Within Rules to Move Home Games to Guwahati: BCCI
Riyan Parag with MS Dhoni @ BCCI

राजस्थान हाई कोर्ट इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) फ्रेंचाइजी राजस्थान रॉयल्स के घरेलू मैचों को गुवाहाटी शिफ्ट करने की चुनौती देने वाली याचिका पर गुरुवार को अपना फैसला सुना सकता है। इस बीच, बीसीसीआई ने राजस्थान रॉयल्स का समर्थन करते हुए स्पष्ट रूप से कहा है कि घरेलू मैचों के अनुरोध को लेकर उन्होंने किसी भी तरह के नियमों का उल्लंघन नहीं किया है।

इस मामले में आईपीएल के नियमों की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि आईपीएल के नियम किसी भी फ्रेंचाइजी को अपने तीन घरेलू मैचों को दूसरे स्थान पर ले जाने की अनुमति देता है। लेकिन इसके लिए आईपीएल कार्यकारी परिषद की मंजूरी मिलनी जरूरी है।

सूत्रों ने कहा, “नियम साफ कहता है कि अगर आपके पास आईपीएल कार्यकारी परिषद की मंजूरी है तो आप अपने तीन घरेलू मैच दूसरे स्थान पर खेल सकते हैं। इसलिए राजस्थान रॉयल्स कुछ ऐसा नहीं कर रही है, जोकि नियमों के खिलाफ हो।”

पढ़ें:- माइकल क्‍लार्क को हमेशा से था शादी टूटने का डर, आखिर… 2016 में क्यों कही थी ये बात

इस बारे में जब फ्रेंचाइजी के अधिकारी से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि मैचों को गुवाहाटी शिफ्ट करने का कदम कई कारणों को ध्यान में रखकर उठाया गया है। उन्होंने साथ ही कहा कि यह सिर्फ अधिक राजस्व हासिल करने के मकसद से नहीं किया गया है।

उन्होंने कहा, “इस बात से कोई इनकार नहीं करता है कि राजस्व एक चिंता का विष्य है। लेकिन गुवाहाटी में मैचों को शिफ्ट करने का यह कोई एक कारण नहीं है। हम इस खेल को पूर्वोत्तर में भी फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। गुवाहाटी में हमारे पास राजस्थान मूल के बहुत सारे लोग हैं। हमें लगता है कि उन्हें अपने पसंदीदा खिलाड़ियों को एक्शन में देखने का यह एक अच्छा विचार होगा।”

पढ़ें:- भारत को अब जसप्रीत बुमराह पर ज्‍यादा निर्भरता से बाहर निकालना होगा: आशीष नेहरा

अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, “इसके अलावा हम पूर्वोत्तर में जमीनी स्तर पर भी काम कर रहे हैं और आने वाले समय में आप को वहां हमारे द्वारा शुरू की जा रही अकादमी देखने को मिल सकता है। इसलिए, हम इस खेल को वहां के स्थानीय लोगों तक ले जाना चाहते हैं और अपने लोकल हीरो रियान पराग को भी नहीं भूलना चाहते। हमारे पास किसी के खिलाफ करने को कुछ भी नहीं है। हम सकारात्मक हैं और हमें उम्मीद है कि अदालत यह समझेगी कि हम अपने खेल को जयपुर से गुवाहाटी ले जाकर किसी के भी भावना को ठेस पहुंचाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं।”