राजेश्वरी गायकवाड © Getty Images
राजेश्वरी गायकवाड © Getty Images

न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाली भारतीय गेंदबाज राजेश्वरी गायकवाड के परिवार को ऐसे समय पर उनके पिता शिवानंद गायकवाड की कमी खल रही है। कुछ साल पहले हॉर्ट अटैक के कारण राजेश्वरी के पिता का निधन हो गया था। राजेश्वरी के पिता ही उनके मेंटोर थे लेकिन वह न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में उनके करियर का सबसे बेहतरीन स्पेल भी नहीं देख सके। राजेश्वरी की मां सावित्री ने मीडिया से बातचीत में कहा कि, “उसके पिता बच्चों के खेल और करियर के सबसे बड़ा समर्थक थे। दुख की बात है कि वह उसका सबसे बेहतरीन प्रदर्शन देख नहीं पाए।”

राजेश्वरी के पिता ने अपने सभी बच्चों को खेल जगत में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। राजेश्वरी जहां क्रिकेट में नाम कमा रही हैं, वहीं उनके भाई विश्वनाथ बैंडमिंटन और वॉलीबॉल के खिलाड़ी हैं। राजेश्वरी की सबसे छोटी बहन रामेश्वरी भी स्टेट लेवल की क्रिकेटर हैं, साथ ही वह इंडिया ग्रीन के लिए भी खेल चुकी हैं। उनकी दूसरी बहन भुवनेश्वरी हॉकी खिलाड़ी हैं। हालांकि उनके दूसरे भाई काशीनाथ तबला वादक है। गौरतलब है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में केवल 15 रन देकर 5 विकेट चटका कर भारत को सेमीफाइनल में पहुंचाने वाली राजेश्वरी हमेशा से क्रिकेटर नहीं बनाना चाहती थी। राजेश्वरी भाला और डिस्कस थ्रो के साथ अपने भाई की तरह वॉलीबॉल खेला करती थी। [ये भी पढ़ें: तीन मौके जब किसी बल्लेबाज के दोहरा शतक बनाने पर 153 रनों से जीता है भारत]

राजेश्वरी की मां ने आगे कहा, “शिवानंद को चिन्नास्वामी स्टेडियम में आईपीएल मैच देखते हुए घातक हॉर्ट अटैक आया था। तब राजेश्वरी और रामेश्वरी उनके साथ थी। वह शनिवार के मैच में उसका प्रदर्शन देखकर बहुत खुश होते।” राजेश्वरी की दोनों बहनो ने भी कहा, “यह दुर्भाग्यशाली है कि आज ये मैच देखने के लिए वह हमारे साथ नहीं है।” [ये भी पढ़ें: वनडे रैंकिंग में नंबर एक बनने के करीब हैं मिताली राज]

राजेश्वरी के भाई काशीनाथ भी अपनी बहन के इस प्रदर्शन से काफी प्रभावित हैं। उन्होंने कहा, “यह हम सभी के लिए गर्व की बात है और सभी खुश हैं। यह एक आईसीसी टूर्नामेंट है, अगर मेरी बहन को सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का अवार्ड नहीं भी मिलता तो भी हम खुश होते क्योंकि उसने भारत को मैच जिताया है और टीम इंडिया सेमीफाइनल तक पहुंची है।”