इशान किशन © Ishan Kishan’s Facebook Page
इशान किशन © Ishan Kishan’s Facebook Page

ईशान किशन, नाम तो सुना ही होगा। जी हां, ईशान किशन साल 2015 में अंडर- 19 विश्व कप में टीम इंडिया के कप्तान थे। उनकी कप्तानी में टीम इंडिया ने फाइनल तक का सफर तय किया था और फाइनल में एक छोटी सी चूक के कारण टीम इंडिया खिताब से महरूम रह गई थी और वेस्टइंडीज बाजी मार गई था। ईशान को इस टूर्नामेंट के बाद आईपीएल में सम्मिलित किया गया। भले ही आईपीएल में वह कुछ खास कमाल न दिखा पाए हों। लेकिन आजकल घरेलू क्रिकेट में उनका परचम लहरा रहा है।

आजकल रणजी ट्रॉफी का पांचवा राउंड प्रगति पर है। ग्रुप बी में खेले जा रहे दिल्ली और झारखंड के मुकाबले में इशान ने झारखंड की ओर से खेलते हुए एक बड़ा रिकॉर्ड बना दिया। ईशान ने तूफानी दोहरा शतक लगाकर झारखंड क्रिकेट के इतिहास में रणजी ट्रॉफी में सबसे बड़ा स्कोर अपने नाम कर लिया है। इसके साथ ही वह झारखंड के लिए 250 से ज्यादा रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज भी बन गए हैं। अपनी इस पारी में दिल्ली के खिलाफ खेलते हुए ईशान ने 336 गेंदों पर 273 रन बनाए। इस पारी के दौरान इशान ने 21 चौके और 14 छक्के लगाए। 14 छक्कों के साथ ईशान ने रणजी क्रिकेट के इतिहास में एक पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने के रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली। उनके पहले साल 1990 में हिमाचल के बल्लेबाज शक्ति सिंह के 14 छक्के एक रणजी मैच में जड़े थे।  [ये भी पढ़ें: नाइक ने कई खिलाड़ियों की किटों से हटाई अपनी स्पॉन्सरशिप]

शक्ति सिंह ने धर्मशाला में हरियाणा के खिलाफ अपनी 128 रन की पारी में 14 छक्के लगाए थे। ईशान किशन की पारी की बदौलत झारखंड की टीम ने पहली पारी में दिल्ली के सामने 493 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा कर दिया है। ईशान की। ईशान की उम्र अभी 18 साल ही है। जिस तरह की प्रतिभा वह आजकल दिखा रहे हैं। उसे देखते हुए उनका भविष्य उज्जवल दिखाई देता है। ईशान का प्रथम श्रेणी क्रिकेट में यह पहला दोहरा शतक है। उनकी बल्लेबाजी को देखते हुए एक या दो साल में उनका टीम इंडिया में मौका बन सकता है।