विनय कुमार © IANS
विनय कुमार © IANS

रणजी ट्रॉफी 2017-18 सीजन के क्वार्टर फाइनल मुकाबलों के पहले दिन कर्नाटक के कप्तान विनय कुमार सुर्खियों में रहे। कप्तान विनय कुमार की रिकॉर्ड हैट्रिक के दम पर कर्नाटक ने गुरुवार को विदर्भ क्रिकेट संघ (वीसीए) स्टेडियम में खेले गए क्वार्टर फाइनल मैच में मुंबई को पहले दिन पहली पारी में 173 रनों पर ही ढेर कर दिया। दिन का खेल खत्म होने तक कर्नाटक ने अपनी पहली पारी में एक विकेट के नुकसान पर 115 रन बना लिए हैं। वो अभी भी मुंबई से 58 रन पीछे है।

विनय इसी के साथ रणजी ट्रॉफी में हैट्रिक लेने वाले पहले कप्तान बन गए हैं। उन्होंने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया और पहले ओवर की आखिरी गेंद पर युवा स्टार पृथ्वी शॉ (2) को स्लिप पर खड़े करुण नायर के हाथों कैच कराया। इसके बाद अपने अगले ओवर में उन्होंने जय बिष्ट (1) और आकाश पारकर (0) को पहली और दूसरी गेंद पर आउट कर अपनी हैट्रिक पूरी की। विनय ने कुल 6 विकेट लिए।

अपनी पहली पारी खेलने उतरी कर्नाटक को बेहतरीन शुरुआत मिली और रवि कुमार समर्थ (40), मयंक अग्रवाल (नाबाद 62) की सलामी जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 83 रन जोड़े। समर्थ को शिवम दुबे ने बोल्ड कर अपनी टीम को पहली सफलता दिलाई। इसके बाद मयंक को कुनेन अब्बास का साथ मिला और दोनों ने दिन का खेल खत्म होने तक कर्नाटक को कोई और झटका नहीं लगने दिया।

बंगाल बनाम गुजरात

बंगाल ने पहले बल्लेबाजी करते हुए खेल के पहले दिन 6 विकेट पर 261 रन बनाए। बंगाल की ओर से ओपनर आर ईश्वरन ने शानदार शतक लगाते हुए 129 रनों की पारी खेली। अनूस्तुप मजूमदार ने भी शानदार अर्धशतक लगाया वो सिर्फ 6 रनों से अपने शतक से चूक गए। कप्तान मनोज तिवारी का बल्ला खामोश रहा, वो 1 रन पर ही आउट हो गए।

मध्य प्रदेश बनाम दिल्ली

मध्य प्रदेश ने पहले दिन 6 विकेट पर 223 रन बनाए। विकेटकीपर अंकित दाने ने सबसे ज्यादा 59 रनों की पारी खेली। नमन ओझा ने 49 और हरप्रीत सिंह भाटिया नाबाद 47 रनों पर नाबाद हैं। दिल्ली की ओर से विकास मिश्रा ने सबसे ज्यादा 3 विकेट झटके।

 

पाकिस्तान सुपर लीग 2018 का फाइनल कराची में होगा, जानिए पूरा शेड्यूल
पाकिस्तान सुपर लीग 2018 का फाइनल कराची में होगा, जानिए पूरा शेड्यूल

केरल बनाम विदर्भ

केरल और विदर्भ के बीच का मुकाबला पूरी तरह बारिश से प्रभावित रहा। पहले दिन मैदान गीला होने की वजह से टॉस में देरी हुई और जब खेल शुरू हुआ तो सिर्फ 24 ही ओवर फेंके जा सके जिसमें विदर्भ ने सिर्फ 45 रन पर अपने 3 विकेट गंवा दिए।