Ranji Trophy 2018-19, Elite A, Round 3: Wasim Jaffer, Faiz Fazal score Centuries as Vidarbha declared 529/6 on Day 2
Wasim-Jaffer © Getty Images (FILE IMAGE)

घरेलू क्रिकेट के दिग्‍गज वसीम जाफर (153), कप्‍तान फैज फजल (151) और अक्षय वाडकर (नाबाद 102) की शानदार पारी के दम पर विदर्भ ने बड़ौदा के खिलाफ रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए मैच में दूसरे दिन अपनी पहली पारी 6 विकेट पर 529 रन बनाकर घोषित की।

जवाब में दिन का खेल खत्म होने तक बड़ौदा ने बिना किसी नुकसान के 41 रन बना लिए थे। स्टंप्स के समय कप्तान केदार देवधर और आदित्य वाघमोडे 20-20 रन बनाकर नाबाद लौटे।

विदर्भ ने दिन की शुरूआत 1 विकेट पर 268 रन से की।

पहले दिन शतक पूरा करने वाले फजल और जाफर ने दूसरे विकेट के लिए 300 रन की साझेदरी की। जाफर ने रन आउट होने से पहले 284 गेंद की पारी में 13 चौके और दो छक्के लगाए।

फजल ने 356 गेंद की मैराथन पारी में 15 चौके और दो छक्के लगाए। लुकमल मेरिवाला (79/2) की गेंद पर देवधर ने कैच कर उनकी पारी का अंत किया।

दोनों का जल्दी-जल्दी विकेट गिरने के बाद गणेश सतीश (56) अक्षण वाडकर के साथ चौथे विकेट के लिए 145 रन जोड़े। बड़ौदा की ओर से तेज गेंदबाज ल्‍यूकमैन मेरीवाला और स्पिनर भार्गव भट्ट ने दो-दो विकेट लिए।

रणजी में 11 हजार रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी बने जाफर

मुंबई की ओर से घरेलू क्रिकेट खेलने वाले अनुभवी वसीम जाफर रणजी ट्रॉफी में 11 हजार या इससे अधिक रन बनाने वाले देश के पहले खिलाड़ी बने। इस मुकाबले में उतरने से पहले जाफर ने 10,903 रन बनाए थे। उन्‍होंने इस मैच में 153 रन की पारी खेली।

रणजी ट्रॉफी में जाफर के बाद सर्वाधिक रन मुंबई के उनके पूर्व साथी अमोल मजमूदार (9,202) और मध्य प्रदेश के देवेंद्र बुंदेला (9,201) ने बनाए हैं।

जाफर ने महान विजय हजारे की बराबरी की

वसीम जाफर ने कप्‍तान फजल के साथ 300 रन की साझेदारी कर महान विजय हजारे की बराबरी की। विजय हजारे एकमात्र खिलाड़ी हैं जिन्‍होंने रणजी ट्रॉफी में चार बार 300 या इससे अधिक रन की साझेदारी की है।

40 साल के जाफर के नाम रणजी में रिकॉर्ड 37 शतक और 81 अर्धशतक दर्ज हैं

वसीम जाफर रणजी ट्रॉफी प्रतियोगिता में सबसे अधिक शतक बनाने वाले बल्‍लेबाजों में शीर्ष पर हैं। उन्‍होंने अब तक 37 शतक और 81 अर्धशतक लगाए हैं।

4 मैच खेलने के बाद तोड़ देंगे देवेंद्र बुंदेला का ये रिकॉर्ड

वसीम जाफर 4 मैच खेलने के बाद मध्‍यप्रदेश के देवेंद्र बुंदेला का सबसे अधिक रणजी ट्रॉफी मैच खेलने का रिकॉर्ड तोड़ देंगे। बुंदेला ने रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक 145 मैच खेले हैं।

 

सौराष्‍ट्र बनाम गुजरात :  हार्विक देसाई और स्‍नेल पटेल का धमाकेदार अर्धशतक

सलामी बल्लेबाज हार्विक देसाई के नाबाद 79 रन और स्नेल पटेल (62) के साथ पहले विकेट के लिए 102 रन की साझेदारी से सौराष्ट्र ने ग्रुप ए मैच में दूसरे दिन गुजरात के 324 रन के जवाब में तीन विकेट पर 221 रन बना लिए।

स्टंप्स के समय देसाई के साथ शेल्‍डन जैक्सन (22) क्रीज पर मौजूद थे। टीम पहली पारी के आधार पर गुजरात से अब भी 103 रन पीछे है और उसके सात विकेट शेष है।

गुजराज ने दिन की शुरुआत 6 विकेट पर 269 रन से की। चेतन सकारिया (83/5) ने स्कोर में बिना कोई रन जोड़े ही पहले दिन के नाबाद बल्लेबाज पीयूष चावला (20) को पवेलियन की राह दिखाई।

रश कलारिया ने हालांकि एक छोर संभाले रखा लेकिन दूसरे छोर से विकेटों का गिरना जारी रहा। कलारिया ने 10 चौके और दो छक्के की मदद से नाबाद 91 रन की पारी खेली।
रेलवे बनाम छत्‍तीसगढ़: रेलवे के 4 विकेट पर 132 रन

प्रथम सिंह के नाबाद 56 रन की पारी से रेलवे ने ग्रुप ए के मैच में छत्तीसगढ़ के खिलाफ दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक 4 विकेट पर 132 रन बना लिए।

छत्तीसगढ़ ने दिन की शुरुआत 5 विकेट पर 222 रन से की और उनकी पूरी टीम 300 रन पर आउट हो गई।

पहले दिन के नाबाद बल्लेबाज अमनदीप खरे ने 54 और विशाल कुशवाह 52 रन की पारी खेली। दोनों के बीच 6 विकेट के लिए 78 रन की साझेदारी को करण ठाकुर ने तोड़ा।

रेलवे के लिए मनजीत सिंह और करण ने 4-4 विकेट लिए ।

दिन का खेल खत्म होते समय प्रथम के साथ रेलवे के कप्तान एम रावत (नाबाद 16) क्रीज पर मौजूद थे। पहली पारी के आधार पर टीम अब भी 168 रन पीछे है और उसके 6 विकेट शेष है।

कर्नाटक के 400 रन के जवाब में मुंबई के 2 विकेट पर 99 रन

केवी सिद्धार्थ के बड़े शतक के बावजूद शिवम दुबे के 7 विकेट की मदद से कर्नाटक को 400 रन पर रोकने वाले मुंबई ने भी ग्रुप ए मैच में ढुलमुल शुरुआत की और 99 रन पर 2 विकेट गंवा दिए।

सिद्धार्थ ने 161 रन बनाए लेकिन उनके बाद दूसरा बड़ा स्कोर कप्तान एस गोपाल (48) का रहा जो आज अपने स्कोर में केवल एक रन जोड़ पाए। निचले क्रम में अभिमन्यु मिथुन (नाबाद 34) और जे सुचित (30) के योगदान से कर्नाटक 400 रन तक पहुंचने में सफल रहा। मध्यम गति के गेंदबाज दुबे ने 57 रन देकर 2 विकेट लिए।

मुंबई ने बेहद धीमी शुरुआत की। अखिल हेरवाडकर 19वें ओवर की आखिरी गेंद पर पवेलियन लौटे लेकिन तब तक उनके नाम पर केवल पांच रन दर्ज थे। इसके लिए उन्होंने 50 गेंदें खेली। उनका स्थान लेने वाले अक्षय सरदेसाई ने दिन के अंतिम ओवर में आउट होने से पहले 23 रन बनाए। स्टंप के समय सलामी बल्लेबाज जय बिस्टा 69 रन पर खेल रहे थे।