रणजी ट्रॉफी 2018-19 सीजन में मुंबई की टीम के लचर प्रदर्शन को लेकर मुंबई क्रिकेट संघ की क्रिकेट सुधार समिति ने मंगलवार को बैठक बुलायी है जिसमें कई पूर्व कप्तानों को आमंत्रित किया गया है।

यह बैठक अगले सत्र के लिये योजना तैयार करने के उद्देश्य से बुलायी गयी है। मुंबई 41 बार का रणजी चैंपियन है लेकिन वह इस बार नॉकआउट चरण में जगह बनाने में नाकाम रहा।

पढ़ें:- हार्दिक पांड्या के पास विवाद को भुलाकर एक दिग्गज खिलाड़ी बनने का मौका

इसके बाद एमसीए के अधिकारियों तथा क्रिकेट सुधार समिति के सदस्य राजू कुलकर्णी, किरण मोकाशी और साहिल कुकरेजा ने सीनियर खिलाड़ियों जैसे सूर्यकुमार यादव, सिद्धेष लाढ, अखिल हेरवादकर और कोच विनायक सावंत से बात की थी।

एमसीए सूत्रों ने बताया कि वर्तमान कोच और कप्तान भी कल बैठक में हिस्सा लेंगे। पता चला है कि जिन पूर्व कप्तानों के बैठक में भाग लेने की संभावना है उनमें मिलिंद रेगे, संजय मांजरेकर और समीर दिघे भी शामिल हैं।

पढ़ें:-  जब मैं 19 साल का था तब मैं शुभमन गिल का दस प्रतिशत भी नहीं था

मौजूदा रणजी सीजन में मुंबई की टीम ने ग्रुप स्‍तर पर कुल आठ मैच खेले, जिनमें वो केवल एक ही मुकाबला जीत पाई। टीम को दो मैचों में हार का सामना करना पड़ा, जबकि पांच मैचों ड्रॉ रहे। इस सीजन में मुंबई ने केवल 17 अंक हासिल किए।

(एजेंसी)