Ranji trophy game against Andhra will be Gautam Gambhir’s last match
Gautam Gambhir © Getty Images

साल 2007 और 2011 में विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रहे बल्लेबाज गौतम गंभीर ने मंगलवार को क्रिकेट के सभी प्रारूप से संन्यास ले लिया। दिल्ली और आंध्र प्रदेश के बीच गुरुवार से फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेला जाने वाला रणजी मुकाबला उनके शानदार क्रिकेट करियर का अंतिम मैच होगा।

भारत के लिए 58 टेस्ट और 147 वनडे मैच खेलने वाले गंभीर ने ट्विटर पर अपने संन्यास की जानकारी दी और साथ ही अपने आखिरी मुकाबले को बारे में बताया।

पढ़ें:- दो ‘गंभीर’ पारी जिसने भारत को बनाया वनडे और टी20 विश्व चैंपियन

गंभीर ने लिखा, “आंध्र प्रदेश के साथ होने वाला रणजी ट्रॉफी मुकाबला मेरे करियर का अंतिम मैच होगा। मेरे करियर का अंत वहीं होने जा रहा है, जहां (कोटला स्टेडियम) से मैंने शुरुआत की थी। एक बल्लेबाज के तौर पर मैंने टाइमिंग का सम्मान किया है। मेरे लिए यह संन्यास लेने का सही समय है और मुझे लगता है कि यह मेरे शॉट्स की तरह ही स्वीट है।”

गंभीर ने साल 2016 में भारत की तरफ से आखिरी टेस्ट खेला था। उनका करियर 1999 में शुरू हुआ था। उन्होंने टेस्ट मैचों में 41.95 के औसत से कुल 4154 रन बनाए और वनडे मैचों में उनके नाम 5238 रन रहे। भारत के लिए गंभीर ने 37 टी-20 मैच भी खेले। टेस्ट मैचों में गौतम ने 9 शतक जबकि वनडे में कुल 11 शतक बनाए। इसके अलावा टी-20 में उनके नाम सात अर्धशतक है।

पढ़ें:- विश्व कप चैंपियन गौतम गंभीर ने क्रिकेट को कहा अलविदा

अपने डेढ दशक के क्रिकेट करियर के दौरान गंभीर भारत के अलावा दिल्ली, दिल्ली डेयरडेविल्स, एसेक्स, कोलकाता नाइट राइर्ड्स के लिए खेले। कोलकाता नाइट राइर्ड्स के कप्तान के तौर पर गम्भीर ने दो बार आईपीएल खिताब जीते हैं। वह दिल्ली की रणजी टीम तथा डेयरडेविल्स टीम के भी कप्तान रहे हैं।