ravi shastri explained why india lost two world cup named player whom team missed badly

त्रिनिदाद: बतौर कोच रवि शास्त्री का कार्यकाल काफी अच्छा रहा। भारतीय टीम ने शास्त्री की कोचिंग के दौरान टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन का मुकाम भी हासिल किया। इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया में लगातार दो बार टेस्ट सीरीज जीतीं। हालांकि, आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत पाने का सवाल हमेशा उठता रहा।

भारत को साल 2021 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हार मिली। इसके अलावा 2019 वर्ल्ड कप में भारत न्यूजीलैंड से सेमीफाइनल में हारा। वहीं 2021 के टी20 वर्ल्ड में टीम इंडिया ग्रुप स्टेज से आगे नहीं बढ़ पाई।

आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत पाना ही शास्त्री के बतौर कोच करियर पर सवालिया निशान रहा। और पूर्व भारतीय कोच ने इस पर अब खुलकर अपनी राय रखी है। वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान कॉमेंट्री कर रहे शास्त्री ने इस बारे में बात की है। शास्त्री ने बताया कि आखिर आईसीसी खिताब नहीं जीत पाने का सबसे बड़ा कारण क्या रहा। शास्त्री ने बताया कि एक जैनुअन ऑलराउंडर नहीं होने की वजह से टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा।

शास्त्री ने फैन कोड से कहा, ‘मैं हमेशा से ऐसा खिलाड़ी चाहता था जो टॉप-6 में गेंदबाजी कर सके। हार्दिक के चोटिल होने से, यह एक बहुत बड़ी समस्या बन गई। और भारत को इसका खमियाजा भुगतना पड़ा। इससे भारत को दो वर्ल्ड कप गंवाने पड़े। चूंकि हमारे पास कोई ऐसा खिलाड़ी नहीं था जो टॉप 6 में गेंदबाजी कर सके। तो यह एक कमी थी। हमने सिलेक्टर्स से कहा, ‘कोई खिलाड़ी देखो’ लेकिन आखिर था कौन?’

पंड्या को 2018 के एशिया कप के दौरान पीठ में चोट लग गई थी। अगले तीन साल तक वह इससे परेशान रहे। 2021 टी20 वर्ल्ड कप के बाद से वह सिलेक्शन के लिए उपलब्ध नहीं थे। इसके बाद उन्होंने इस साल आईपीएल में दमदार वापसी की। उन्हें गुजरात टाइटंस की कप्तानी सौंपी गई। उन्होंने गेंद और बल्ले से उपयोगी प्रदर्शन किया। गुजरात टाइटंस ने पहले ही प्रयास में आईपीएल की ट्रॉफी अपने नाम की।