विराट कोहली को कप्तानी सौपने का सही समय: रवि शास्त्री
फोटो साभार: thecricketlounge.com

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और पूर्व निदेशक रवि शास्त्री का मानना है कि टीम के महेन्द्र सिंह धौनी के लिए सीमित ओवरों की टीमों की जिम्मेदारी टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली को सौंपने का यह सही समय आ गया है। शास्त्री का मानना है कि कोहली हर प्रारूप में टीम की कमान संभालने को तैयार हैं। शास्त्री का कहना है कि आने वाले समय में भारत को एकदिवसीय से ज्यादा टेस्ट क्रिकेट खेलनी हैं और ऐसे में धौनी के लिए इस अंतराल को भरना मुश्किल होगा।

उन्होंने कहा कि अगर वह चयनकर्ता होते तो जरूर कोहली को सभी प्रारूप में टीम का कप्तान बनाने के बारे में सोच रहे होते।

शास्त्री ने टीवी चैनल इंडिया टुडे को दिए साक्षात्कार में कहा, “मैं निश्चित ही कोहली को सभी प्रारूपों में टीम का कप्तान बनाने के बारे में सोचता। आपको देखना होगा की अगले तीन साल में टीम कहां होगी। अगले तीन साल तक कोई भी बड़ा टूर्नामेंट नहीं है। इसके बाद विश्व कप है। इसलिए यह कोहली को कप्तानी सौंपने का सही समय है।”

उन्होंने कहा, “अगर आप अगले 18 महीने का कार्यक्रम देखें तो भारत को बहुत कम एकदिवसीय मैच खेलने हैं। इन दो सालों में काफी लंबा अंतराल है। इसलिए यह समय इस बारे में सोचने का है कि आप अगले तीन साल में क्या कर सकते हैं। अगर मैं मुख्य चयनकर्ता होता तो निश्चित ही इस बारे में सोच रहा होता। इसमें कोई सवाल ही नहीं है।”

शास्त्री ने कहा कि यह बेशक मुश्किल फैसला है, लेकिन टीम के हित में यह फैसला लेना पड़ेगा।

उन्होंने कहा, “खेल को आगे बढ़ाना होगा उसके लिए कड़े फैसले लेने होंगे। यही जिंदगी है इसमें कुछ गलत नहीं है। यह भारतीय क्रिकेट के भले के लिए है। अगर आप भविष्य के बारे में सोचते हैं और आप को लगता है कि धौनी अभी भी सर्वश्रेष्ठ कप्तान हैं तो उन्हें कप्तान बनाए रखिए। लेकिन समस्या टेस्ट और एकदिवसीय के बीच अंतराल की है। आपको सोचना होगा की आपके पास धौनी का विकल्प है, मुझे लगता है कि हां है।”

शास्त्री ने भारतीय टीम के साथ अगस्त 2014 से 2016 में खेले गए टी-20 विश्व कप तक बतौर निदेशक काम किया है। धौनी ने दिसंबर 2014 तक हर प्रारूप में टीम की कमान संभाली थी। उन्होंने 2014 में आस्ट्रेलिया में खेली जा रही टेस्ट श्रृंखला के दौरान इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद कोहली को टेस्ट टीम की कमान सौंपी गई थी।

शास्त्री ने कहा कि अगर धौनी को कप्तान की जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया जाता है तो वह एक खिलाड़ी के तौर पर अभी भी टीम में अहम भूमिका निभा सकते हैं।

उन्होंने कहा, “आप कोहली को कप्तान बनाते हैं तो धौनी से कुछ नहीं ले रहे हैं। वह एक खिलाड़ी के तौर पर अभी भी टीम में अहम योगदान दे सकते हैं। अब समय आ गया है कि उन्हें खेल का आनंद लेने दिया जाए।”

शास्त्री ने कहा, “अंत में यह बात मायने रखती है कि धौनी कितने जुनूनी हैं। उनमें अभी भी भारत के लिए खेलने की ललक है या नहीं। इसके साथ ही समय आ गया है कि आपने जिस खिलाड़ी को इतने दिनों से तैयार किया उसे परखा जाए। कोहली तैयार हैं।”