Ravi Shastri to CAC: One bad day in the World Cup doesn’t make this team bad
Ravi Shastri (File Photo)@ AFP

कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी की तीन सदस्यीय क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने रवि शास्त्री को भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम के मुख्य कोच पद पर बरकरार रखा है।

शास्त्री का नया कार्यकाल टी-20 विश्व कप-2021 तक होगा। वह इस समय टीम के साथ विंडीज दौरे पर हैं और उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सीएसी के समक्ष इंटरव्यू दिया। शास्त्री ने इस रेस में ऑस्ट्रेलिया के टॉम मूडी और न्यूजीलैंड के माइक हेसन को पीछे छोड़ा।

पढ़ें:- क्‍या विराट के प्रभाव से शास्‍त्री फिर बने मुख्‍य कोच, कपिल देव ने दी प्रतिक्रिया..

इंटरव्यू के बारे में जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि शास्त्री ने यह पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि उनका काम अभी अधूरा है और उनकी टीम कप्तान विराट कोहली के नेतृत्व में शानदार काम कर रही है।

सूत्रों ने कहा, “कुछ सवाल थे और शास्त्री उनमें से एक थे, जो न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में मिली हार के बाद गलत हो गया था। उन्होंने (शास्त्री) यह स्पष्ट कर दिया था कि एक बुरा दिन इस टीम को बुरा नहीं बनाता। उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि टीम के रूप में उनका काम अधूरा है और अब उनके सामने एक नहीं बल्कि 2020 और 2021 में होने वाले दो टी-20 विश्व कप है। जिस आत्मविश्वास के साथ यह समिति बनाई गई थी वह यह मानते थे कि शास्त्री ही वह शख्स हैं, जिनकी इस टीम को आगे बढ़ाने के लिए जरूरत है।”

पढ़ें:- टेस्‍ट क्रिकेट की नंबर-1 टीम को टक्‍कर देने के लिए विंडीज टीम से जुड़े ब्रायन लारा

सूत्रों ने आगे कहा कि वहां पैरामीटर थे। लेकिन एक बात, जिस मामले में शास्त्री ने हेसन को मात दी वह ये कि विदेशी धरती पर शास्त्री के मार्गदर्शन में टीम का प्रदर्शन शानदार रहा है।

उन्होंने कहा, “सीएसी, इस तथ्य के बारे में स्पष्ट था कि चैंपियन टीमें विदेशी धरती पर अच्छा प्रदर्शन करती हैं। प्रत्येक टीम घर पर अच्छा प्रदर्शन करती है और भारत ने भी पिछले कई वर्षो में ऐसा ही किया है। लेकिन विदेशी धरती पर टीम का शानदार प्रदर्शन, शास्त्री के दोबारा से कोच बनने के पक्ष में रहा।”

गौरतलब है कि शास्त्री ने हाल के दिनों में टीम में आए बदलाव के लिए कोहली को भी श्रेय दिया था। सूत्रों ने कहा, “शास्त्री ने सीएसी से कहा कि इस टीम में एक ऐसा कप्तान है जो सामने से आकर नेतृत्व करने में विश्वास रखता है। इसके अलावा और कोई ऐसा तरीका नहीं है कि युवा खिलाड़ी कोहली को पसंद नहीं करना चाहेंगे। शास्त्री ने सीएसी को यह भी बताया कि कैसे कोहली ने नए बेंचमार्क सेट किए हैं।”