साल 1948 में वीनू मांकड़ के बिली ब्राउन को नॉन स्ट्राइकर एंड से रन आउट करने के बाद से क्रिकेट जगत में इस तरह के डिसमिसल जिसे अब ‘मांकड़िंग’ कहा जाता है, को लेकर बहस छिड़ गई। इस बहस को और हवा तब मिली जब रविचंद्रन अश्विन ने इंडियन प्रीमियर लीग के दौरान इंग्लैंड के बल्लेबाज जोस बटलर को मांकड़िंग कर आउट किया। अश्विन को इसके लिए काफी आलोचना का सामना करना पड़ा लेकिन वो अपनी बात पर अड़े रहे क्योंकि आखिर में ये आईसीसी नियमों के अंतर्गत आता है।

हाल ही में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित अंडर-19 विश्व कप के दौरान अफगानिस्तान-पाकिस्तान के बीच खेले जा रहे मैच में मांकड़िंग का मामला देखने को मिला। जब अफगानिस्तान के नूर अहमद ने पाकिस्तानी बल्लेबाज मोहम्मद हुरैरा को आउट किया। इस विकेटपर भी क्रिकेट जगत दो पक्षों में बंट गया। एक पक्ष मांकड़िंग को सही बता रहा था और दूसरा इसे खेलभावना के खिलाफ बताया।

टीम इंडिया को बड़ा झटका, टेस्ट सीरीज से बाहर हुआ ये स्टार खिलाड़ी

इंग्लैंड के सीनियर तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन भी मांकड़िंग के विरोधियों के पक्ष में शामिल हुए। एंडरसन ने ट्वीट कर आईसीसी से इस नियम पर चर्चा करने और इसे हटाने की मांग की। उन्होंने लिखा, “क्या हम इसे हल कर (हटा) सकते हैं? ICC, MCC”

लेकिन भारतीय स्पिनर अश्विन ने इस ट्वीट को लेकर एंडरसन का मजाक बनाया। उन्होंने लिखा, “नियम को हटाने के लिए कुछ विचार-विमर्श की आवश्यकता हो सकती है !! अभी आप एक श्रेडर (कागज को काटने वाली मशीन) से काम चला लें।”