Ravichandran Ashwin reignites ‘Mankad’ run out controversy with sanctions call
(BCCI)

भारतीय गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने नॉन स्ट्राइकर रेखा से आगे निकलने वाले बल्लेबाजों के लिए सजा की मांग कर मांकड़ रन आउट विवाद को एक बार फिर भड़का दिया है।

पिछले साल इंडियन प्रीमियर लीग के दौरान अश्विन के इंग्लिश बल्लेबाज जोस बटलर को मांकड़ रन आउट करने के बाद इस मुद्दे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहस शुरू हो गई थी। अश्विन चाहते हैं इस नियम को तोड़ने पर बल्लेबाज की टीम से रन काटे जाएं या फिर गेंदबाजी करने वाली टीम को फ्री बॉल मिले।

अश्विन ने मंगलवार को ट्विटर पर कहा, “मुझे उम्मीद है तकनीक से पता लगाया जा सकेगा कि गेंदबाज के गेंद कराने से पहले बल्लेबाज आगे निकल रहा है या नहीं और जब भी बल्लेबाज ऐसा करे उसके रन काटे जाने चाहिए। इसके बाद ही फ्रंट लाइन पर समानता आएगी।”

‘अश्विन के खिलाफ दोहरा शतक बनाने वाले सिबले की क्षमता पर सवाल करना गलत’

उन्होंने कहा कि एक विकल्प ये भी होगा कि अगर बल्लेबाज लाइन से आगे निकलता है तो गेंदबाज को “फ्री बॉल” दें, इससे खेल में निष्पक्षता आती है। अश्विन ने ये नहीं बताया कि फ्री बॉल क्या होगी लेकिन ये बल्लेबाजों को मिलने वाली फ्री हिट जैसी होगी।

आईसीसी ने सोमवार को ऐलान किया कि गुरुवार से शुरू होने वाली विश्व कप सुपर लीग में टीवी अंपायर फ्रंट फुट नो बॉल चेक करेंगे। इससे उन्हें ये देखने में भी मदद मिलेगी कि बल्लेबाज नॉन स्ट्राइकर एंड से बाहर था या नहीं।