दुनिया के महान ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) भारत के स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) को मौजूदा दौर के बेस्ट ऑफ स्पिनरों में सबसे ऊपर आंकते हैं. लेकिन उन्हें डर है कि कही अश्विन अपनी फॉर्म न खो दें. मुरलीधरन के मुताबिक, अश्विन पर भारत के बाकी स्पिन गेंदबाज नियमित प्रदर्शन का दबाव बना रहे हैं अगर वह दबाव में घिर गए तो इसका असर उनके फॉर्म पर पड़ेगा. इसके अलावा मुरलीधरन ने कहा कि उन्हें सिर्फ टेस्ट फॉर्मेट में ही नहीं बल्कि खेल के तीनों फॉर्मेट में खेलना चाहिए.

मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने कहा कि वह (Ravichandran Ashwin) बेहद चतुर गेंदबाज हैं लेकिन SENA (साउथ अफ्रीका, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया) देशों में ज्यादा विकेट नहीं मिलने के कारण उनकी आलोचनाएं भी होती हैं. अश्विन ने हाल ही में टेस्ट क्रिकेट में 400 विकेट लेने का कारनामा अपने नाम किया है. वह सबसे तेज 400 विकेट लेने वाले दुनिया के दूसरे गेंदबाज हैं.

लेकिन टीम इंडिया का यह स्टार गेंदबाज पिछले काफी समय से सिर्फ टेस्ट क्रिकेट में खेल रहा है. वह लंबे समय से वनडे और टी20 टीम का हिस्सा नहीं रहे हैं, जबकि रविंद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) और अक्षर पटेल (Axar Patel) तीनों फॉर्मेट में खेल रहे हैं और वे शानदार प्रदर्शन कर अश्विन पर दबाव बना रहे हैं.

मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) क्रिकेट वेबसाइट क्रिकइन्फो पर बात कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा, ‘मैं अश्विन  (Ravichandran Ashwin) के साथ खेला हूं, जब वह IPL में चेन्नई सुपरकिंग्स (CSK) का हिस्सा थे. तब से अब तक उनके खेल में बहुत ज्यादा सुधार आया है. मैं उन्हें ऑफ स्पिनरों में सबसे ऊपर आंकता हूं. लेकिन दूसरे भारतीय स्पिनर भी लगातार अच्छा कर रहे हैं, जो अश्विन को दबाव में ला रहे हैं.’

इस महान ऑफ स्पिनर (Muttiah Muralitharan) ने कहा, ‘लेकिन उन्हें अपना कॉन्फिडेंस बनाए रखने की जरूरत है और यह कोशिश करनी चाहिए कि वह खेल के सभी फॉर्मेट में खेल सकें. अगर वह सिर्फ टेस्ट क्रिकेट ही खेलेंगे तो उनकी फॉर्म गिर सकती है क्योंकि वह नियमित मैच नहीं खेल पाएंगे. अगर वह तीनों फॉर्मेट में खेलते हैं तो वह हमेशा सीखते रहेंगे.’

मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने अश्विन की जमकर तारीफ की है. उन्होंने कहा कि वह अच्छी लाइन और लेंथ पर बॉलिंग करते हैं. वह अपनी गेंदबाजी में लगातार विविधताएं लाते रहते हैं ताकि बल्लेबाज हमेशा सोचने पर मजबूर रहे. ठीक है विदेशों में परिस्थितियां उन्हें ज्यादा नहीं भाती हैं. लेकिन भारत में वह गेंद के स्पिन होने के बाद बेहद खतरनाक हैं.