मेहदी हसन मिराज ©Getty Images
मेहदी हसन मिराज ©Getty Images

बांग्लादेश भारत के खिलाफ खेला गया ऐतिहासिक टेस्ट भले ही हार गया हो लेकिन एक खिलाड़ी ऐसा भी है जिसे इस दौरे पर बहुत कुछ सीखने का मौका मिला। 19 वर्षीय बांग्लादेशी स्पिनर मेहदी हसन मिराज ने कहा कि टीम इंडिया के गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन से मिलकर वह काफी खुश हैं। इस युवा गेंदबाज ने यह भी कहा कि अश्विन ने उन्हें स्पिन गेंदबाजी की कई बारीकियां बताईं। सोमवार को हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में भारत ने बांग्लादेश को 208 रनों से हराया। मैच के बाद सभी खिलाड़ी एक दूसरे से मिले तब मेहदी हसन ने स्पिन किंग अश्विन के साथ कुछ देर बात की। इस दौरान अश्विन ने उन्हें कई अहम बातें बताई। मेहदी ने यह भी कहा, “वह दुनिया के शीर्ष गेंदबाज हैं। मैं उन्हे करीब से देखने की कोशिश करता हूं ताकि जान सकूं कि भिन्न परिस्थितियों में वह किस तरह की गेंदबाजी करते हैं। वह किस तरह बल्लेबाज को फंसाते हैं और विकेट लेते हैं। जब भी भारत खेलता है मैं उनके लिए मैच देखता हूं।”

इस बारे में बात करते हुए युवा गेंदबाज ने कहा, “जब से हम भारत आए थे तभी से मैं उनसे मिलना चाहता था। मैच के बाद मैंने उनसे पूछा कि किस तरह परिस्थितियों में कैसी गेंदबाजी करनी चाहिए। मुझे मैच की विभिन्न परिस्थितियों के बारें में कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने मेरा हौसला बढ़ाया। उन्होंने कहा कि मुझमे लंबे और सफल अंतर्राष्ट्रीय करियर खेलने की क्षमता है और उन्होंने मुझे और ज्यादा मेहनत करने की सलाह दी। उनके पास विविधता है इसलिए मैंने उनसे उनकी अलग-अलग गेंदों के बारे में पूछा।” आश्चर्य की बात है कि केवल पांच टेस्ट मैच खेले मेहदी ने अपने 25 टेस्ट विकेट भी पूरे कर लिए हैं। इस युवा गेंदबाज ने अपनी प्रतिभा से सभी का ध्यान आकर्षित किया है। उन्होंने आगे कहा, “मेरे पास हाई आर्म एक्शन है इसलिए मैं गुड लेंथ पर गेंद डाल सकता हूं, यह मेरी ताकत है। मैं अपनी गेंदबाजी में और विविधता और गति लाना चाहता हूं। मैंने अश्विन से इस बारे में बात की। उन्होंने बताया कि मुझे अपनी ताकत पर ही कायम रहना चाहिए। उन्होंने मुझे सलाह दी कि मुझे अपनी तरीके से ही गेंदबाजी करनी चाहिए जो मेरे लिए आरामदायक है।” ये भी पढ़ें: भारत बनाम बांग्लादेश, हैदराबाद टेस्ट: मेहमान और मेजबान टीम का रिपोर्टकॉर्ड

मेहदी हसन ने इस दौरे पर अपनी गेंदबाजी में कई बदलाव किए हैं जो आगे टेस्ट क्रिकेट में उनके काम आएंगे। मेहदी में वह क्षमता है कि वह कुछ सालों में अपनी टीम में वह जगह हासिल कर सकते हैं जो टीम इंडिया में अश्विन की है।