Ravindra Jadeja: If I do well, I will be back playing all three formats for India
Ravindra Jadeja (Getty images)

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय स्क्वाड में चुने गए रविंद्र जडेजा को सीरीज के आखिरी मैच में प्लेइंग इलेवन में मौका मिला। जडेजा ने ओवल टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन किया और 24 ओवर में 57 रन देकर 2 विकेट झटके। अब जडेजा की ख्वाहिश फिर से वनडे और टी20 फॉर्मेट में वापसी करने की है।

पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद जडेजा ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, “मेरे लिए सबसे बड़ी बात ये है कि मैं भारत के लिए खेल रहा हूं और अगर मैं इसी तरह अच्छा खेलता रहा तो मैं फिर से तीनों फॉर्मेट्स में वापसी करूंगा। लेकिन मेरा काम है कि जब भी मौका मिले उसे प्रदर्शन में बदलूं।”

जडेजा ने आगे कहा, “जब आप केवल एक ही फॉर्मेट खेल रहे होते हैं तो काफी मुश्किल होती है क्योंकि मैचों के बीच काफी खाली समय होता है और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए जो अनुभव चाहिए होता है वो कम हो जाता है। इसलिए आपको अपने आप को प्रोस्ताहित करते रहना होता है, ताकि जब भी आपको मौका मिले जैसे इस मैच में मिला, तो आप मैदान पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें।”

पहले दिन के खेल के बारे में बात करते हुए जडेजा ने कहा, “जब आपको पहले दिन विकेट से मदद नहीं मिलती है तो काफी मुश्किल होती है। आप जो गेंद कराना चाहते हैं वो वैसी नहीं होती है। मैं केवल ये सोच रहा था कि शमी, इशांत और बुमराह दूसरे छोर से गेंदबाजी कर रहे हैं। वो बल्लेबाज को लगातार बीट कर रहे थे। मैं केवल ये सोच रहा था कि मैं बाउंड्री ना जाने दूं क्योंकि अगर एक छोर से दबाव खत्म हो जाएगा तो बल्लेबाजों के लिए आसानी हो जाएगी।”

पहले सेशन में केवल एक विकेट मिलने के बाद दूसरे सेशन में भारतीय गेंदबाजों को कोई सफलता नहीं मिली लेकिन उन्होंने अच्छी गेंदबाजी जारी रखी और दिन के आखिरी सेशन में 6 विकेट लेकर इंग्लैंड के बल्लेबाजी क्रम को बिखेर दिया। जडेजा ने कहा, “हमे दूसरे सेशन में एक भी विकेट नहीं मिला लेकिन हमने ज्यादा रन नहीं दिए। हमने अच्छी वापसी की। सभी गेंदबाजों ने अच्छा काम किया। सभी ने अच्छी गेंदबाजी की, खासकर कि जब मोइन अली और एलिस्टर कुक के बीच साझेदारी बन रही थी। हमारी योजना थी कि अगर उन्हें बाउंड्री नहीं मिलेंगी तो वो परेशान होंगे और गलत शॉट खेलकर आउट होंगे और यही हुआ।”