ऑस्ट्रेलियाई स्टार बल्लेबाज स्टीव स्मिथ (Steve Smith) ने भारत के स्पिन ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) की जमकर प्रशंसा की और उन्हें उपमहाद्वीप की परिस्थितियों में सबसे मुश्किल गेंदबाज करार दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘जडेजा का उपमहाद्वीप में जवाब नहीं। इसलिए वो इतना अच्छा गेंदबाज है। वो गुडलेंथ पर पर सही जगह पर गेंद पिच कराता है। एक गेंद उछाल लेती है तो दूसरी स्पिन। जब उसके हाथ से गेंद निकलती है तो वह एक जैसी ही लगती है।’’

स्मिथ ने कहा, ‘‘लेग स्पिनर के लिए अच्छी गुगली या स्लाइडर महत्वपूर्ण होती है। उंगलियों के स्पिनर के लिए हाथ की गति में ज्यादा बदलाव किए बिना गेंद की गति में बदलाव करना महत्वपूर्ण होता है। दुनिया में बहुत कम गेंदबाज ऐसा कर पाते हैं। जडेजा उनमें से एक है। उसे खेलना बहुत मुश्किल होता है।”

कम ही लोग जानते हैं कि स्मिथ ने अपने करियर की शुरुआत एक स्पिनर तौर पर की थी लेकिन फिर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज बन गए। उन्होंने कहा, ‘‘मैं एक गेंदबाज की तुलना में बेहतर बल्लेबाज था। मैंने अपने पहले दो टेस्ट मैच विशेषज्ञ स्पिनर के तौर पर खेले। ये अजीब था। वे शेन वार्न युग के बाद एक स्पिनर चाहते थे और मैं 12-13 स्पिनरों में से एक था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसके बाद मुझे बाहर कर दिया गया और मैं ऑस्ट्रेलियाई टीम में वापसी के रास्ते तलाशने लगा। तब मैंने गेंदबाजी के बजाय अपना पूरा ध्यान बल्लेबाजी पर दिया। लेकिन मैं जब तब गेंदबाजी करता रहता हूं।’’

स्मिथ ने पिछले साल आईपीएल के बीच में अंजिक्य रहाणे से कप्तानी का जिम्मा संभाला था और वो फिर से राजस्थान रॉयल्स की अगुवाई करने के लिये उत्सुक हैं। कोविड-19 के कारण इंडियन प्रीमियर लीग 15 अप्रैल तक स्थगित किया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘अभी दुनिया में बहुत कुछ चल रहा है। उम्मीद है कि हमें साल में किसी समय आईपीएल में खेलने का मौका मिलेगा।’’

स्मिथ ने कहा, ‘‘मैंने जिन दो सत्र में रॉयल्स की कप्तानी की, उन दोनों में बीच में ये जिम्मा संभाला। मैंने 2015 में शेन वाटसन से कप्तानी ली और पिछले साल भी मैंने सीजन के बीच में ये जिम्मा संभाला। इस बार मैं शुरू से ये जिम्मा संभालने के लिए तैयार हूं। रॉयल्स की टीम काफी अच्छी है।’’