आरसीबी ने बेहद रोमांचक मुकाबले में पंजाब को दी 1 रन से मात
फोटो साभार espncricinfo.com

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के नौवें संस्करण में सोमवार को पंजाब क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले गए लीग के 38वें मैच में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने रोमांचक मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब को एक रन से हरा कर अपनी चौथी जीत दर्ज की। बेंगलोर ने अब्राहम डिविलियर्स की 35 गेंदों में पांच चौके और दो छक्कों की मदद से खेली गई 65 रनों की पारी की बदौलत 20 ओवरों में छह विकेट खोकर 175 रन बनाए थे। पंजाब पूरे 20 ओवर खेलने के बाद भी चार विकेट खोकर 174 रन ही बना सकी और एक रन से मैच हार गई।

पंजाब की तरफ से मुरली विजय ने 57 गेंदों में 89 रनों की शानदार पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 12 चौके और एक छक्का लगाया। विजय के अलावा मार्कस स्टोइनिस ने 22 गेंदों में 33 रनों की अहम पारी खेली, लेकिन वह टीम को जीत नहीं दिला सके।

बेंगलोर की तरफ से सबसे सफल गेंदबाज शेन वाटसन रहे। उन्होंने अपने चार ओवरों में 22 देकर दो विकेट लिए। वाटसन ने सिर्फ टीम के लिए रन ही नहीं रोके बल्कि अहम समय पर विजय को आउट कर बेंगलोर की मैच में वापसी भी कराई। उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी पंजाब को हाशिम अमला (21) और विजय ने अच्छी शुरुआत दी। दोनों ने पहले विकेट के लिए 5.3 ओवरों में 45 रन जोड़े। वाटसन ने अमला को पवेलियन भेज बेंगलोर को पहली सफलता दिलाई।

रिद्धिमान साहा (16) ने विजय के साथ पारी को आगे बढ़ाया। दोनों ने टीम के स्कोर को 88 तक पहुंचा दिया था। साहा जब लय पकड़ते दिख रहे थे तभी युजवेन्द्र चहाल की गेंद पर बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में स्टम्पिंग हो गए। चहाल ने अगली ही गेंद पर डेविड मिलर (0) को अपनी गुगली के जाल में फंसा कर आउट कर पंजाब को परेशानी में डाल दिया।

विजय ने कप्तान की जिम्मेदारी निभाई और लगातार खूबसूरत शॉट खेलकर टीम को दबाव से बाहर निकाला। इसमें स्टोइनिस ने उनका बखूबी साथ दिया। दोनों ने चौथे विकेट के लिए छह ओवरों में 51 रन जोड़ टीम का स्कोर 139 तक पहुंचा दिया था। इस साझेदारी में विजय ने 42 और स्टोइनिस ने आठ रन जोड़े।

जब लग रहा था कि विजय इस सत्र का अपना शतक लगाकर टीम को जीत दिला देंगें तभी वह 17वें ओवर में वाटसन की गेंद पर लपके गए। आखिरी ओवर में टीम को जीत के लिए 17 रनों की जरूरत थी लेकिन स्टोइनिस पूरी कोशिश करने के बाद भी जरूरी रन नहीं बना सके और टीम मैच हार गई।

इससे पहले टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी बेंगलोर की टीम को के.एल.राहुल (42) और कप्तान विराट कोहली (21) ने सधी हुई शुरुआत दी। राहुल एक छोर से तेजी से रन बना रहे थे तो दूसरे छोर पर कोहली अपने अंदाज से उलट एक-एक रन लेकर पारी को आगे बढ़ा रहे थे।

दोनों ने पहले विकेट के लिए 7.3 ओवर में 63 रन जोड़े। केसी करिअप्पा ने राहुल को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा। उन्होंने अपनी 25 गेंद की पारी में छह चौके और एक छक्का लगाया। इसी ओवर में करिअप्पा ने कोहली को पवेलियन भेज बेंगलोर को अचानक दबाव में ला दिया।

अगला ओवर लेकर आए अक्षर पटेल ने शेन वाटसन (1) को आउट कर बेंगलोर को संकट में डाल दिया। 63 रनों पर टीम का कोई विकेट नहीं गिरा था। लेकिन, 67 रन तक आते-आते टीम ने अपने तीन विकेट खो दिए।

इसके बाद डिविलियर्स मैदान पर आए। उन्होंने न सिर्फ टीम को संकट से उबारा बल्कि टीम को मजबूत स्कोर तक पहुंचाने में अहम योगदान दिया। इसमें उनका साथ सचिन बेबी (33) ने दिया। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 88 रनों की साझेदारी की। दोनों ने 9.1 ओवरों में 9.60 की औसत से रन जोड़े। डिविलियर्स को 18वें ओवर में संदीप शर्मा ने पवेलियन भेजा।

ट्रेविस हेड (11) अंतिम ओवर की पांचवीं गेंद पर आउट हुए। सचिन भी अंतिम गेंद पर दो रन लेने की कोशिश में रन आउट हो गए।

पंजाब की तरफ से संदीप और करिअप्पा ने दो-दो विकेट लिए। अक्षर को एक विकेट मिला। एक बल्लेबाज रन आउट हुआ।