RCB team management should not think of changing their captain Virat Kohli, says Virender Sehwag
विराट कोहली (IANS)

इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन से एक बार फिर बिना खिताब जीते बाहर हुई रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को फैंस की आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। ना केवल बल्कि कई क्रिकेट समीक्षकों और पूर्व क्रिकेटरों ने विराट कोहली को आरसीबी के कप्तान पद से हटाए जाने की मांग की है, जिसमें पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर भी शामिल हैं। हालांकि उनके साथी बल्लेबाज रहे वीरेंदर सहवाग को ऐसा नहीं लगता।

क्रिकबज से बातचीत में सहवाग ने कहा, “एक कप्तान उतना ही अच्छा होता है, जितनी उसकी टीम। जब विराट भारत की कप्तानी करता है, तो वो नतीजे ला पाता है। वो वनडे, टी20 और टेस्ट मैच जीतता है लेकिन जब वो आरसीबी की कप्तानी करता है तो उसकी टीम प्रदर्शन नहीं कर पाती।”

पूर्व क्रिकेटर ने कहा, “एक कप्तान के लिए अच्छी टीम होना जरूरी है। इसलिए मेरा मानना है कि मैनेजमेंट को अपने कप्तान को बदलने का नहीं सोचना चाहिए, बल्कि ये टीम को बेहतर बनाने के बारे में सोचना चाहिए। टीम का प्रदर्शन सुधारने के लिए किन लोगों को टीम में जोड़ने की जरूरत है?”

भारतीय खिलाड़ी थोड़े बदमाश हो गए हैं : वसीम अकरम

कोहली का बचाव करने के बाद सहवाग ने आरसीबी की असली परेशानी पर भी बात है। जो कि टीम का कमजोर बल्लेबाजी क्रम है। 13वें सीजन आरसीबी की बल्लेबाज देवदत्त पाडिक्कल और एबी डीविलियर्स पर भी निर्भर रही और एलिमिनेटर मैच में इनमें से एक बल्लेबाज का ना चलना टीम के लिए मुसीबत बन गया।

इस पर सहवाग ने कहा, “हर टीम के पास सेट बल्लेबाजी क्रम है लेकिन आरबीसी के पास ये कभी नहीं था। उनके पास केवल एबीडी और कोहली है, जो कि क्रम में ऊपर-नीचे आते रहते हैं। पाडिक्कल के आने के बाद, मेरे ख्याल से आरसीबी को एक और सलामी बल्लेबाज और एक अच्छे निचले क्रम के बल्लेबाज की जरूरत है।”

उन्होंने कहा, “ये पांच बल्लेबाज आपको मैच जितना के लिए काफी होने चाहिए। उसी तरह उन्हें अपने भारतीय तेज गेंदबाजों पर भरोसा करना होगा। हर किसी की धुलाई होती है, ऐसा नहीं है कि रबाडा या मॉरिस या बाकियों ने कभी रन नहीं लुटाए।”