Ricky Ponting advised David Warner to play his natural game against Stuart Broad
डेविड वार्नर (Twitter)

इंग्लैंड और ऑस्ट्रे्लिया के बीच मैनचेस्टर में खेले जा रहे चौथे एशेज टेस्ट के पहले दिन तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड ने डेविड वार्नर को दसवीं बार अपना शिकार बनाया। इंग्लैंड में आयोजित एशेज सीरीज के शुरू होने से पहले ब्रॉड ने एक साल (2013-14) में वार्नर को पांच बार आउट किया था। जबकि केवल इस सीरीज में वो वार्नर को अब तक कुल पांच बार आउट कर चुके हैं, जो कि ऑस्ट्रेलिया टीम के लिए चिंता का विषय है। पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग ने वार्नर की मुश्किल का हल बताया है।

पॉन्टिंन ने सुझाया कि अगर वार्नर ब्रॉड के खिलाफ डिफेंसिव होने की बजाय अपना स्वाभाविक आक्रामक खेल खेलें तो उन्हें फायदा होगा। उन्होंने कहा, “डेवी जाहिर तौर पर ब्रॉड के खिलाफ संघर्ष कर रहा है। ब्रॉड का राउंड द विकेट एंगल वार्नर को परेशान कर रहा है। सच कहूं तो ये सभी बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए परेशान करने वाला है। राउंद द विकेट आकर गेंद को बाहर की तरफ स्विंग कराने का ब्रॉड का ये नया स्किल सभी को परेशान कर रहा है।”

पॉन्टिंग ने आगे कहा, “डेवी एक बार फिर गेंद को छोड़ने के लिए मजबूर हुआ। ये इस सीरीज में दूसरी बार हुआ है और मुझे लगता है कि ये उसके लिए मानसिकता की बात है। अगर वो गेंद को हिट करने जाएगा और छोड़ने की कोशिश नहीं करेगा, जैसा कि वो कर रहा है तो मुझे लगता है कि वो ठीक हो जाएगा।”

एशेज के दौरान अनोखा नजारा, बिना बेल्‍स के खेला गया मैच

हालांकि पॉन्टिंग ने माना जब कोई एक गेंदबाज आपके खिलाफ लगातार सफलता हासिल कर रहा हो तो बल्लेबाज के लिए इससे बाहर निकल पाना मुश्किल होता है। उन्होंने कहा, “मैंने इस बारे में कई बातें कही हैं कि वो किस तरह से खेल सकता है लेकिन ट्रेनिंग के दौरान बल्लेबाजी करने और वहीं काम टेस्ट मैच में करने में अंतर है।”

पूर्व कप्तान ने आगे कहा, “उसने हेडिंग्ले में चीजें बदली, उसने अपना गार्ड कई बार बदला, ऑफ स्टंप की तरफ बढ़ा, कई बार क्रीज से बाहर निकलने की कोशिश की और ब्रॉड की लाइन और लेंथ में जाने की कोशिश की। आज की गेंद ठीक थी। ये उनमें से एक थी जिसकी हम उम्मीद कर रहे थे- अंदर की तरफ कोण बनाकर बाहर की तरफ जाती हुई। जब आप डेवी को उसके सर्वश्रेष्ठ स्तर पर खेलते देखते हैं तो वो गेंद छोड़ने के बारे में नहीं छोड़ता है। वो उछाल के ऊपर हावी होने की कोशिश करता है और कवर्स की तरफ हिट करता है।”

मैनचेस्टर टेस्ट में वार्रन के शून्य पर आउट होने के बाद स्टीव स्मिथ और मार्नस लाबुशेन ने पारी को संभाला। दोनों खिलाड़ियों ने पहले दिन अर्धशतक जड़े। दोनों की 116 रन की साझेदारी के दम पर ऑस्ट्रेलिया ने स्टंप तक तीन विकेट कर 170 रन बना लिए थे।