बल्‍लेबाजी में निरंतरता की कमी और खराब विकेटकीपिंग के चलते बार-बार फैन्‍स के निशाने पर आने वाले रिषभ पंत (Rishabh Pant) को भारतीय क्रिकेट टीम का भविष्‍य कहा जाता है. केएल राहुल (KL Rahul) के विकेट के पीछे जिम्‍मेदारी संभालने के बाद अब सीमित ओवरों के क्रिकेट में पंत के लिए जगह बना पाना भी मुश्किल होता चला जा रहा है. पंत ने बताया कि रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting) ने उन्‍हें खुलकर खेलने की आजादी दी है.

आईपीएल की अपनी फ्रेंचाइजी दिल्‍ली कैपिटल्‍स (Delhi Capitals) के साथ लाइव इंस्‍टाग्राम चैट के दौरान रिषभ पंत (Rishabh Pant) ने कहा ,‘‘पोंटिंग सर मुझे पूरी आजादी देते हैं. वह कहते हैं कि जैसा चाहो, खेलो.’’

उन्होंने यह भी कहा कि आईपीएल 2018 सीजन उनके लिये जिंदगी बदलने वाला रहा. पंत ने इसमें 14 मैचों में 650 रन बनाये थे जिसमें छह अर्धशतक शामिल थे.

‘वह सीजन मेरे लिये जिंदगी बदलने वाला था. मुझे उस कामयाबी की जरूरत थी. हम पिछली बार नॉकआउट तक पहुंचे और तीसरे स्थान पर रहे.’’

उन्होंने टेस्ट क्रिकेट खेलने की चुनौतियों के बारे में कहा, ‘‘मुझे टेस्ट खेलना पसंद है. आप खुद को समय दे सकते हैं. टेस्ट क्रिकेट में आपकी असल परीक्षा होती है.’’

पंत ने अपने शुरूआती दिनों के संघर्ष के बारे में भी बताया. उन्होंने कहा कि एम एस धोनी, विराट कोहली, रोहित शर्मा, युवराज सिंह, सुरेश रैना और शिखर धवन जैसे सीनियर खिलाड़ियों ने उनकी काफी मदद की.

अपने आदर्श एडम गिलक्रिस्ट के बारे मे उन्होंने कहा ,‘‘समय के साथ मुझे अहसास हुआ कि आपको अपने आदर्श से सीखना होता है, उसकी नकल नहीं करनी होती . आपको अपनी अलग पहचान बनानी होती है.’’