Ricky Ponting has no issue with Steve Smith helping skipper Tim Paine on field
स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर, टिम पेन और कैमरून बैनक्रॉफ्ट (IANS)

बर्मिंघम के एजबेस्टन स्टेडियम में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे पहले एशेज टेस्ट के दौरान पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ फील्ड सेट करते दिखे। जिसके बाद सोशल मीडिया पर ऐसी चर्चा होने लगी कि जब स्मिथ के कप्तान बनने पर बैन लगा हुआ है तो वो मैदान पर होने वाले फैसलों में हिस्सा क्यों ले रहे हैं, जिसे पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग ने पूरी तरह बकवास बकाया।

पॉन्टिंग का कहना है कि स्मिथ जैसे सीनियर खिलाड़ी के कप्तान टिम पेन की मदद करने में कोई खराबी नहीं है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया वेबसाइट से बातचीत में उन्होंने कहा, “मैंने आज सुबह ऑनलाइन इन बातों के बारे में पढ़ा, जहां लोग कर रहे हैं कि उसे ये सब नहीं करना चाहिए क्योंकि वो कप्तान नहीं है। जो कि एकदम बकवास है।”

पॉन्टिंग ने आगे कहा, “वो कप्तान नहीं है, वो टॉस नहीं कर रहा और टीम भी नहीं चुन रहा लेकिन टिम पेन बेवकूफ होगा अगर वो जरूरत पड़ने पर उसके जैसे अनुभवी खिलाड़ी जिसके बाद क्रिकेट की समझ वाला दिमाग है, की मदद ना ले।उसने अपनी सजा पूरी कर ली है और बतौर खिलाड़ी उसका सस्पेंशन खत्म हो गया है, सभी को पता है कि वो अगले साल तक कप्तान नहीं बन सकता। वो ऐसी टीम का हिस्सा है जो कि उसके अनुभव पर काफी निर्भर है, इसलिए वो जिस भी तरह से मदद कर सकता है, वो करेगा और मुझे यकीन है कि अगर पेनी या टीम इससे खुश नहीं होते तो ये चीज होती ही नहीं।”

The Ashes: दूसरी पारी में भी स्मिथ के बल्‍ले से निकले रन, इंग्‍लैंड पर बनाई 34 रन की बढ़त

पॉन्टिंग ये बात भी स्पष्ट कर दी कि अगर कप्तानी का बैन हटने के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया स्मिथ को फिर से टीम की जिम्मेदारी सौंपता है तो उन्हें इससे कोई ऐतराज नहीं है। विश्व कप विजेता कप्तान ने कहा, “मैंने अब तक इस बारे में सोचा तो नहीं है लेकिन निजी तौर पर मुझे इससे कोई परेशानी नहीं है।”

उन्होंने कहा, “अगर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों को उसके कप्तान बनने से समस्या होती तो वो उस पर आजीवन बैन लगाते, है ना? केवल 12 महीनों का अतिरिक्त बैन लगाने का मतलब है कि वो उसकी वापसी से खुश हैं। इसलिए अगर अधिकारी इससे खुश हैं तो मैं भी खुश हूं।”