Rishabh Pant is somebody who disappoints, Sanju Samson ahead of him for me : Kevin Pietersen 
रिषभ पंत (IANS)

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के कप्तान केविन पीटरसन ने युवा भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत की अनिरंतरता की कड़ी आलोचना की। पीटरसन का कहना है कि वो अभी भी पंत के लगातार अच्छा प्रदर्शन करने का इंतजार कर रहे हैं।

इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेल रहे पंत ने अभी तक छह मैचों में 31, 37, 28, 38, 37 और 5 रनों की पारियां खेली हैं। पंत अभी तक आईपीएल में एक भी बड़ी पारी नहीं खेल पाए हैं।

पीटरसन का मानना है कि राष्ट्रीय टीम में जगह पक्की करने के लिए पंत को लगातार अच्छी पारियां खेलना जरूरी है। स्टार स्पोर्ट्स के शो के दौरान पीटरसन ने कहा, “रिषभ पंत ऐसा खिलाड़ी है जो निराश करता है, क्योंकि वो ऐसा खिलाड़ी है जिससे मैं काफी उम्मीदें रखता हूं।”

पूर्व दिग्गज ने कहा, “और मैं अभी तक उसके बल्ले से लगातार अच्छे प्रदर्शन करने का इंतजार कर रहा हूं। भारतीय टीम का टैग हासिल करने के लिए, और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के लिए आपको निरंतरता चाहिए। आपको बेहतर होना होगा। मैं पिछले एक साल से, उसके पिछले साल से और उसके पिछले साल से एक ही खिलाड़ी को देख रहा हूं। जब से वो खेल रहा है वो तब से अनिरंतर है।”

IPL 2020: दिल्ली कैपिटल्स को राहत; चोटिल नहीं हैं रिषभ पंत

अनिरंतर प्रदर्शन के बावजूद पंत भारतीय टीम के सभी फॉर्मेट में खेलते हैं। सीमित ओवर फॉर्मेट टीम में पंत को पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के उत्तराधिकारी के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि इस भूमिका के लिए पंत को संजू सैमसन से कड़ी प्रतिद्वंद्विता का सामना कर पड़ रहा है। वहीं पीटरसन भी सैमसन के खेल में हुए सुधार से प्रभावित हैं।

उन्होंने कहा, “दूसरी ओर, जब मैं सैमसन को देखता हूं तो मुझे कुछ और ही दिखता है। इस साल आईपीएल में उसने जो समर्पण और प्रतिबद्धता व्यक्त की, उसने मुझे प्रभावित किया। सिर्फ अपनी डाइट, फिटनेस और समर्पण की वजह से वो मेरे लिए वास्तव में पंत से आगे निकल गया है।”

CSK vs RCB: आज केदार जाधव की हो सकती है छुट्टी, कुछ ऐसा होगा चेन्‍नई का प्‍लेइंग-XI

पीटरसन ने आगे कहा, “उसने कहा कि मैं मैदान पर जाना चाहता हूं और वो सब कुछ कर सकता हूं जो भारत के लिए क्रिकेट खेलने के लिए कर सकता हूं। उसने रन पर रन बनाए। वो कुछ मौकों पर असफल हुआ लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जगह पाने के लिए आपको ऐसा ही समर्पण चाहिए क्योंकि चीजें मुश्किल हो जाती हैं, तो मजबूत लोग और बेहतर होते हैं। और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मुश्किल जगह है।”