Rishabh Pant: Want to learn from MS Dhoni, Adam  Gilchrist; don’t want to copy them
Rishabh Pant (File Photo) @ Getty Images

भारतीय टेस्‍ट टीम में विकेटकीपर बल्‍लेबाज की भूमिका निभा रहे युवा क्रिकेटर रिषभ पंत कई मौकों पर कह चुके हैं कि एडम गिलक्रिस्‍ट और महेंद्र सिंह धोनी उनके आदर्श हैं, लेकिन गुरुवार को दिए एक इंटरव्‍यू के दौरान उन्‍होंने कहा कि वो गिलक्रिस्‍ट और धोनी जैसा नहीं बनना चाहते हैं।

टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान रिषभ पंत ने कहा, “मैंने एडम गिलक्रिस्‍ट और महेंद्र सिंह धोनी को अपना आदर्श बनाया है, लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि मैं ठीक वही इंसान बनना चाहता हूं जो गिलक्रिस्‍ट और धोनी हैं। मैं उनसे सीखना चाहता हूं। मैं जो हूं वही बने रहना चाहता हूं।”

पढ़ें:-  ‘माही भाई की बल्लेबाजी से बाकी बल्लेबाजों को आत्मविश्वास मिलता है’

साल 2016 में अंडर-19 विश्‍व कप में शानदार प्रदर्शन के बाद से ही रिषभ पंत को धोनी के उत्‍तराधिकारी के रूप में देखा जा रहा है। विकेट के पीछे जिम्‍मेदारी निभाने के साथ-साथ पंत विस्‍फोटक पारी खेलने के लिए जाने जाते हैं। मैदान पर उनके साहस को कई बार आलोचक घमंड के रूप में भी देखते हैं। रिषभ ने कहा, “दो साल पहले पिता की मृत्‍यु के बाद मुझे खुद को बदलना पड़ा। मुझे अहसास हुआ कि जिम्‍मेदारी क्‍या चीज होती है।”

रिषभ पंत ने कहा, “आप अच्‍छा महसूस करते हैं जब आपकी मेहनत रंग लाती है, लेकिन जहां मैं हूं अगर कोई और होता तो उसे भी संघर्ष करना ही पड़ता। हर किसी के जीवन में अच्‍छा और बुरा दौर आता है।”

पढ़ें:-  केरल पहली बार रणजी सेमीफाइनल में, गुजरात पर दर्ज की 123 रन की बड़ी जीत

ऑस्‍ट्रेलिया में टेस्‍ट सीरीज के दौरान टिम पेन ने उन्‍हें अपने बच्‍चों का बेबी सिटर बनने का ऑफर दिया। पंत बाद में टिम पेन की पत्‍नी और बच्‍चों के साथ फोटो खिंचवाते नजर आए। सोशल मीडिया पर ये तस्‍वीर काफी वायरल हुई थी।

रिषभ पंत ने कहा, “मैं ऐसा ही हूं। अगर कोई मुझे उकसाएगा तो मैं जवाब दूंगा। टीम के लिए मेरी जिम्‍मेदारी है जो मैं निभाऊंगा। मुझे कोड ऑफ कंडक्‍ट के बारे में पता है। मुझे अपनी मर्यादाओं के बारे में भी जानकारी है। मैंने स्‍लेजिंग की और लोगों को ये पसंद आई। मेरी मां और बहन को ये पसंद आया। जिससे मैं भी खुश हूं।”

रिषभ ने कहा, “आईपीएल ने मुझे नाम और पैसा कमाने में काफी मदद करी। जितना ज्‍यादा आप खेलते हैं उतना ही नाम आप कमाते जाते हैं, लेकिन आपको पता होना चाहिए कि कहां आपको अपने लिए सीमा रेखा खींचनी है। हां, यहां से मैं बहुत ज्‍यादा आगे नहीं जा सकता हूं।”