Rohit Sharma: Ajinkya Rahane is definitely an opener
अजिंक्य रहाणे © AFP

भारत बनाम श्रीलंका पहले वनडे में बुरी तरह हार के बाद टीम इंडिया पर कई सवाल उठ रहे हैं। जिसमें अजिंक्य रहाणे को प्लेइंग इलेवन में ना शामिल करने का सवाल काफी अहम है। रहाणे ने भले ही टेस्ट सीरीज में रन नहीं बनाए हो लेकिन पिछली वनडे सीरीज में उनका रिकॉर्ड जबरदस्त है। रहाणे जैसा अनुभवी बल्लेबाज अगर 3 या 4 नंबर पर खेलता तो बल्लेबाजी क्रम को मजबूती मिलती। वहीं कप्तान रोहित शर्मा का कहना है कि रहाणे सलामी बल्लेबाज हैं, इसलिए उन्हें मध्यक्रम में नहीं खिलाया गया और टीम में दो सलामी बल्लेबाज पहले से मौजूद थे।

मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में रोहित ने कहा, “मुझे लगता है कि हमने श्रीलंका में स्पष्ट कर दिया था कि वह सलामी बल्लेबाज है और हम उसके बल्लेबाजी क्रम को बदलते नहीं रहना चाहते। अगर बल्लेबाजी क्रम बदलता रहे तो यह सभी के दिमाग पर असर डालता है। हमने उसकी पहचान सलामी बल्लेबाज के रूप में की है और यही कारण है कि उसे बाहर बैठना पड़ा। हालांकि हम समझते हैं कि पिछली कुछ सीरीज में उसने रन बनाए हैं लेकिन विदेशों में जाने से पहले हम पांडे (मनीष), (केदार) जाधव, अय्यर (श्रेयस) जैसे खिलाड़ियों को पर्याप्त मैच देना चाहते हैं। यह महत्वपूर्ण है कि वे मौके का फायदा उठाएं।’’

महेंद्र सिंह धोनी की जमकर तारीफ की

अंपायर के फैसला लेने से पहले ही महेंद्र सिंह धोनी ने लिया रिव्यू
अंपायर के फैसला लेने से पहले ही महेंद्र सिंह धोनी ने लिया रिव्यू

टीम इंडिया की ओर से महेंद्र सिंह धोनी अकेले बल्लेबाज थे जो एक छोर से संघर्ष करते रहे और 65 रनों की शानदार पारी खेली। उनकी इस पारी के बाद उनके संन्यास लेने की बात करने वालों को करारा जवाब देते हुए रोहित कहा, ‘‘उन्होंने कई बार इस तरह की स्थिति का सामना किया है और हर बार खुद को साबित किया है। पहली बात तो मुझे ये समझ नहीं आता कि ये बात क्यों होती है कि वह हमारी भविष्य की योजनाओं का हिस्सा है या नहीं। फिर उनके रन बनाते ही सारी बातें बदल जाती हैं।’’

यहां ये हाल को दक्षिण अफ्रीका में क्या होगा

केवल भारत ही नहीं श्रीलंका के कप्तान थिसारा परेरा ने भी धर्मशाला की पिच को बल्लेबाजी के लिए मुश्किल बताया। वैसे टीम इंडिया के लिए ये हालात ज्यादा गंभीर हैं क्योंकि कुछ इसी तरह की पिच का सामना उन्हें दक्षिण अफ्रीका में करना होगा। इस बारे में बात करते हुए रोहित ने कहा, ‘‘ये वनडे टीम है, मुझे नहीं लगता कि इसकी तुलना टेस्ट टीम से हो सकती है। टेस्ट टीम को भी कोलकाता में संघर्ष करना पड़ा था लेकिन इन हालात में कोई भी टीम संघर्ष करेगी।’’

हमने खराब शॉट नहीं खेले, उन्होंने अच्छी गेंदबाजी की

भारतीय बल्लेबाजों का बचाव करते हुए रोहित ने कहा, ‘‘इस तरह के हालात में एक या दो बल्लेबाज ही रन बनाते हैं, सभी बल्लेबाज रन नहीं बनाते। मुझे नहीं लगता कि हमने कोई खराब शॉट खेले लेकिन उन्होंने सही लाइन और लेंथ के साथ गेंदबाजी की और हमें दबाव में रखा। बल्लेबाजों को हमेशा खेलने के लिए मजबूर किया गया।’’

नो बॉल हार का कारण नहीं

जसप्रीत बुमराह के नो बॉल पर उपुल थरंगा को आउट करने पर रोहित ने कहा कि यही भारत की हार का कारण नहीं था क्योंकि हमने पहले ही बहुत कम रन बनाए थे। हमने मैच बल्लेबाजों की वजह से हारा, ना कि गेंदबाजों की वजह से। किसी एक खिलाड़ी को निशाना बनाना गलत होगा। मुझे लगता है कि बल्लेबाजी क्रम विफल रहा।’’